मुंबई महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए खींचतान बढ़ती ही जा रही है। बीते 2 महीनों से अध्यक्ष पद के लिए संभावित नामों पर चर्चा शुरू है।

0
81

मुंबई
महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए खींचतान बढ़ती ही जा रही है। बीते 2 महीनों से अध्यक्ष पद के लिए संभावित नामों पर चर्चा शुरू है। हालांकि मौजूदा विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले का नाम इस रेस में सबसे आगे चल रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन्हीं तमाम अटकलों के बीच नाना पटोले आज दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान से मुलाकात करेंगे। महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर राज्य में लोगों के बीच में गलत संदेश ना जाए। इसलिए नाना पटोले अपनी बात कांग्रेस आलाकमान के सामने रखेंगे।
कांग्रेस आलाकमान ने महाराष्ट्र के प्रभारी एच.के पाटिल को नए अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए सभी अधिकार दिए हैं। उनकी मौजूदगी में दिल्ली में वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक भी हाल ही में हुई थी। हालांकि इस बैठक के बाद भी महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष पद के नाम पर कोई फैसला नहीं हो पाया है। महाराष्ट्र कांग्रेस के नए अध्यक्ष के चुनाव में हो रही लेटलतीफी पर राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने भी नाराजगी जताई है। विधायकों से मिलकर भी कोई फैसला नहीं
महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बना सस्पेंस लगातार बढ़ता ही जा रहा है। राज्य प्रभारी एच.के पाटिल द्वारा विधायकों से वन टू वन मुलाकात करने के बाद भी अभी तक कोई फैसला नहीं लिया जा सका है। मुंबई में मराठा समाज से आने वाले भाई जगताप को अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। हालांकि ओबीसी समाज महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष बनाने की कवायद पर अभी तक विराम लगता हुआ नजर नहीं आ रहा है। कांग्रेस में एक पद एक नेता की मांग

महाराष्ट्र कांग्रेस में कुछ नेताओं ने एक व्यक्ति एक पद की मांग के साथ राज्य में नए अध्यक्ष की मांग की थी। नए अध्यक्ष के लिए जल्द ही कांग्रेस आला कमान की तरफ से निर्णय लिया जाएगा। जिसके बाद मौजूदा विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले को यह पद छोड़ना पड़ेगा। इस संभावना को देखते हुए महाराष्ट्र के कई कांग्रेस नेताओं ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए अपनी फील्डिंग लगाना शुरू कर दिया है। मराठवाड़ा के विधायक सुरेश वरपुड़कर, विधायक संग्राम थोपटे, आदिवासी विकास मंत्री केसी पड़वी से लेकर पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण समेत कई नेता इस पद के लिए उत्सुक बताए जा रहे हैं।

जल्द फैसला होने की संभावना
राज्य में महाविकास अघाड़ी सरकार की स्थापना के बाद एक अनुभवी नेता के तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के नाम की चर्चा विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए हुई थी। हालांकि उस समय एनसीपी ने इस बात का विरोध किया था। जिसकी वजह से पृथ्वीराज चव्हाण को यह कुर्सी मिलते मिलते रह गई थी। अब भविष्य में नाना पटोले के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद यह कुर्सी फिर से खाली खाली हो जाएगी। इसलिए एक बार फिर से विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए पृथ्वीराज चव्हाण का नाम दोबारा चर्चा में आया है।