मुंबई, महाविकास अघाड़ी सरकार के ऊर्जा मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नितिन राउत ने ठाकरे सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके विभाग को पर्याप्त फंड नहीं मुहैया करवाया जा रहा है

0
5
मुंबई, महाविकास अघाड़ी सरकार के ऊर्जा मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नितिन राउत (maharashtra energy minister nitin raut) ने ठाकरे सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके विभाग को पर्याप्त फंड नहीं मुहैया करवाया जा रहा है। जिसकी वजह से कई विकास की योजनाएं अधर में लटकी हुई हैं। विशेषकर बिजली विभाग, शिक्षा विभाग और ट्राइबल विभाग सरकार में खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। ये सभी विभाग कांग्रेस के पास हैं। हालांकि परिवहन विभाग को पैकेज दिया गया है। परिवहन मंत्रालय शिवसेना के पास है।
बिजली उपभोक्ताओं को राहत देना चाहते थे राउत
बिजली के बिलों में राहत को लेकर प्रमुख विरोधी दल बीजेपी (maharashtra bjp ) और राज ठाकरे (Raj thackeray ) की मनसे ने सरकार को चेतावनी दी है। इस संबंध में गुरुवार को मंत्रिमंडल की बैठक में बहस हुई। जिससे माहौल कांग्रेस बनाम शिवसेना और एनसीपी हो गया। बहस के दौरान किसी तरह का कोई निर्णय नहीं लिया जा सका। बताया जा रहा है मुख्यमंत्री ठाकरे ने यह कहते हुए कांग्रेस को शांत किया गया कि इस बारे में वे खुद ऊर्जा मंत्री से अलग से बैठक करेंगे। बताया जा रहा है कि बैठक में ऊर्जा मंत्री ने कहा कि बिजली के बिलों में आम आदमी को राहत देने के लिए उन्होंने आठ बार प्रस्ताव भेजा, लेकिन कोई निर्णय नहीं लिया गया। विपक्ष के आक्रामक रुख के बाद सरकार ने मंत्रिमंडल की बैठक में माना कि कोरोना काल के दौरान जिनके बिल ज्यादा आए हैं, उन्हें राहत देने की आवश्यकता है।
केसी पड़वी जता चुके हैं नाराजगी
राज्य के आदिवासी मंत्री केसी पड़वी पहले ही अपना विरोध सरकार के प्रति जता चुके हैं। पड़वी ने कहा कि राज्य के वित्तमंत्री से मिलने के बाद भी उनके विभाग को फंड अलॉट नहीं किया गया है। जबकि 20 प्रतिशत फंड नॉन ऐडेड स्कूल को और 20 प्रतिशत अतिरिक्त फंड ऐडेड स्कूल को दिए जाने का फैसला हुआ था। लेकिन वित्त विभाग ने अभी तक इसे पास नहीं किया है। जबकि परिवहन विभाग को 1000 करोड़ रुपये का फंड दिया गया है। भविष्य में फंड न देने का मुद्दा महाविकास अघाड़ी सरकार में मुसीबत का सबब बन सकता है।
मुख्यमंत्री से बात करेंगे थोरात
महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात (revenue minister bala sahab thorat ) ने यह माना है कि कांग्रेस मंत्रियों के विभागों को पर्याप्त पैसे नहीं दिए जा रहे हैं। इसलिए वह इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री से बात करेंगे। हालांकि अल्पसंख्यक विभाग के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि राज्य फिलहाल कोरोना की वजह से भयंकर आर्थिक तंगी से गुजर रहा है। इसलिए सिर्फ जरूरी चीजों पर ही पैसे खर्च किए जा रहे हैं। खासतौर पर होम डिपार्टमेंट और हेल्थ डिपार्टमेंट को फंड से वंचित नहीं किया जा सकता है। प्राकृतिक आपदा से परेशान किसानों की भी मदद के लिए पैसे दिए जा रहे हैं। नवाब मलिक ने कहा कि उनके विभाग को भी अभी तक पैसे नहीं मिले हैं।(UNA)