मुंबई में डरावने स्थिती में कोरोना का कहर

0
8

मुंबई,
8 जनवरी 2022
UNA न्यूज संवाददाता

बीते चौबीस घंटे में मुंबई में 20971 केस सामने आए हैं.
वहीं पूरे महाराष्ट्र की बात करें तो राज्य में शुक्रवार को 40,925 नए मामले सामने आए हैं। इसके अलावा शुक्रवार को राज्य से ओमिक्रॉन वैरिएंट का नया मामला कोई भी सामने नहीं आया है। राज्य में अब तक ओमिक्रॉन वेरियंट से संक्रमित कुल 876 मरीज सामने आ चुके हैं।
शहर में पॉजिटिविटी रेट 25 फीसदी पर पहुंच गया है. शहर में 87 फीसदी मामले बिना लक्षण वाले हैं।
देश में सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज मुंबई में ही है,संक्रमित मरीजो की संख्या लगातार बढती ही जा रही है,कोरोना का कहर देश की आर्थिक राजधानी में थमने का नाम नही ले रहा।

मुंबई के बेस्ट बसों के 66 कर्मचारी और अधिकारी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इन्ही सब खबरो को लैकर मुंबई की महापौर किशोरी पेडनेकर ने मंगलवार को कहा था कि अगर यहां कोविड​​-19 के दैनिक मामले 20,000 का आंकड़ा पार करते हैं तो केंद्र सरकार के नियमों के अनुसार शहर में लॉकडाउन लगाया जाएगा।
विशेषज्ञो का कहना है कि मुंबई में 6 से 13 जनवरी के बीच संक्रमण के मामले चरम पर पहुंच सकते हैं।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा कि अभी 100% लॉकडाउन की आवश्यकता नहीं है, लेकिन जहां भी भीड़ हो वहां प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता पर जोर दिया।
महाराष्ट्र के स्वास्थ मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि 90% मामले स्पर्शोन्मुख हैं।10% रोगसूचक रोगियों में से केवल 1% से 2% को ही अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है।
आज की स्थिति में निश्चित रूप से 100% लॉकडाउन की आवश्यकता नहीं है,
मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि पाबंदियों का मतलब है कि गैर-ज़रूरी गतिविधियों को रोकना।
वही उनके जारी बुधवार के बयान में उनका कहना था कि “जहाँ भी भीड़ होती है, वहां पाबंदियां होती हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि इसे आज लाया जाए।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने गुरुवार को कहा कि हल्के लक्षणों वाले सीओवीआईडी ​​​​-19 के मरीज संस्थागत संगरोध या अस्पताल के बजाय घरेलू अलगाव में रह सकते हैं।

मुंबई में मामलों में तेजी से वृद्धि के बीच, बीएमसी ने होम आइसोलेशन की न्यूनतम अवधि को भी पहले के 14 दिनों से घटाकर सात दिन कर दिया।

वहीं बीएमसी द्वारा गुरुवार रात जारी किए गए ताजा दिशानिर्देशों के अनुसार, सकारात्मक परीक्षण से कम से कम सात दिनों तक होम आइसोलेशन जारी रहेगा।
रोगी को लगातार तीन दिनों तक बुखार की सूचना नहीं देने के बाद यह समाप्त हो सकता है।