रांची : झारखंड में सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) अपने सहयोगी दल राजद की बेरुखी से परेशान है। दरअसल झामुमो को उम्मीद थी कि झारखंड की तर्ज पर बिहार विधानसभा चुनाव में भी भाजपा विरोधी गठबंधन में उसकी हिस्सेदारी होगी।

0
49
The Union Minister for Railways Shri Lalu Prasad addressing the Economic Editors’ Conference - 2006, organised by the Press Information Bureau, in New Delhi on November 08, 2006. The Director General (M & C), PIB, Smt Deepak Sandhu is also seen.

रांची : झारखंड में सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) अपने सहयोगी दल राजद की बेरुखी से परेशान है। दरअसल झामुमो को उम्मीद थी कि झारखंड की तर्ज पर बिहार विधानसभा चुनाव में भी भाजपा विरोधी गठबंधन में उसकी हिस्सेदारी होगी। इसी रणनीति के तहत झामुमो ने बिहार में 12 सीटों पर प्रत्याशी उतारने की दावेदारी ठोकी, लेकिन लालू प्रसाद की राजद ने इस दावे को गंभीरता से नहीं लिया। इस बीच झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन खुद राजद प्रमुख लालू प्रसाद से मिले और अपनी इच्छा से अवगत कराया। लालू प्रसाद के राजनीतिक उत्तराधिकारी तेजस्वी यादव से भी मुलाकात में उन्होंने अपना रुख स्पष्ट किया, लेकिन अभी तक इसपर राजद ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

दरअसल राजद गठबंधन के तहत झामुमो को एक-दो सीटों से ज्यादा देने को तैयार ही नहीं है। वैसे झारखंड मुक्ति मोर्चा ने भी अब 12 की बजाय पांच-छह सीटों पर संतोष करने की रणनीति बनाई है, लेकिन बात बनती नहीं दिख रही। झामुमो को उम्मीद है कि एक-दो दिनों में तालमेल को लेकर परिदृश्य स्पष्ट हो जाएगा। महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य के मुताबिक उन्हें उम्मीद है कि बिहार में राजद गठबंधन के साथ झामुमो का चुनावी तालमेल होगा। झारखंड से सटी सीटों पर झामुमो का प्रभाव है। तालमेल नहीं होने की स्थिति में अन्य विकल्प भी खुले हैं। झामुमो का इशारा वामदलों समेत अन्य छोटी पार्टियों की तरफ है और बात नहीं बनने की स्थिति में इस गठबंधन के साथ तालमेल की गुंजाइश बन सकती है।

उधर नाम सार्वजनिक नहीं किए जाने की शर्त पर झारखंड राजद के एक प्रमुख नेता ने बताया कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के साथ बिहार में गठबंधन की संभावनाएं काफी कम है। बिहार में झारखंड मुक्ति मोर्चा का प्रभाव नगण्य है। ऐसे में 12 सीटों पर झामुमो की दावेदारी का कोई तुक नहीं है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने भी अपना रुख स्पष्ट कर दिया है।

बिहार की इन सीटों पर झामुमो की दावेदारी

तारापुर, कटोरिया, मनिहारी, झाझा, बांका, ठाकुरगंज, रूपौली, रामपुर, बनमनखी, जमालपुर, पीरपैंती और चकाई।