रांची, । इंडियन स्टार्टअप एसोसिएशन के सदस्यों ने रांची के सांसद संजय सेठ (जो इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के पार्लियामेंट्री कमेटी के सदस्य भी हैं) से मुलाकात की।

5
200

रांची, । इंडियन स्टार्टअप एसोसिएशन के सदस्यों ने रांची के सांसद संजय सेठ (जो इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के पार्लियामेंट्री कमेटी के सदस्य भी हैं) से मुलाकात की। उन्‍हें झारखंड में स्टार्टअप्स की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया तथा इससे संबंधित एक ज्ञापन सौंपा। एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रथीन भद्रा ने उन्हें बताया कि 110 स्टार्टअप्स झारखंड में हाशिए पर हैं। केंद्र व राज्य सरकार के दिखाए गए सपनों को साकार करने की इच्छा मन में लिए कई फाउंडर्स और इनोवटर्स ने बड़ी-बड़ी नौकरियों को छोड़कर झारखंड के विकास के साथ जुड़ने के लिए अपने सपनों से समझौता किया।

ये स्टार्टअप्स आज सरकारी उपेक्षा के कारण बिल्कुल टूटने के कगार पर खड़े हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का कुछ दिनों पहले यह बयान आया था कि अब हम उन लोगों को झारखंड में प्रोत्साहन देंगे जो रोजगार के अवसर पैदा कर सकें। रथीन भद्रा ने कहा कि झारखंड के इन 110 स्टार्टअप्स में इतनी क्षमता है कि ये लाखों नौकरिया दे सकते हैं, लेकिन यहां पर गोद में बच्चा होने के बावजूद शहर में ढिंढोरा बजाया जा रहा है। प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजा बागची, राष्ट्रीय सचिव रवि रंजन सिंह, इनोवेटर आशीष तिवारी, अक्षय पल्लव, सतीश, प्रणव तथा अभिजीत शामिल थे। इन्होंने अपनी-अपनी कार्य क्षमता से सांसद को अवगत कराया और अपनी पीड़ा को भी बयां किया। बातचीत के बाद सांसद ने हर तरह की मदद का आश्वासन दिया और सभी बातों को पार्लियामेंट्री समिति में उठाने का भरोसा दिया।

5 COMMENTS

  1. Wow that was strange. I just wrote an extremely long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyway, just wanted to say superb blog!

  2. Hola! I’ve been following your blog for some time now and finally got the bravery to go ahead and give you a shout out from Porter Texas! Just wanted to mention keep up the excellent job!

  3. Nervousness. 6. 2. Nine percent (9%) of patients were discontinued from BENTYL because of one or more of
    these side effects (compared with 2% in the placebo group).
    In 41% of the patients with side effects, side effects disappeared or were tolerated
    at the 160 mg daily dose without reduction.

  4. A person essentially lend a hand to make seriously posts I would state. This is the very first time I frequented your website page and so far? I surprised with the research you made to create this actual publish extraordinary. Great activity!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here