राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर

0
19

जौनपुर,
ब्यूरो समाचार,

सरजू प्रसाद शैक्षिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था जज कॉलोनी के तत्वाधान में राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम पर जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया है। मुख्य अतिथि जिला कार्यक्रम समन्वयक सलिल कुमार यादव ने कहां टी.बी. का संक्रमण बैक्टीरिया के कारण होता है यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। शरीर के किसी भी पार्ट में संक्रमण हो सकता है, लेकिन ज्यादातर संभावनाएं फेफड़े में टी.बी. होने का रहता है। यह खांसने, थूकने पर हवा के माध्यम से व्यक्तियों में संक्रमण फैलता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार भारत में हर साल 26 लाख लोग इस बीमारी से ग्रसित हो होते हैं। 4 से 7 लाख टी.बी. से मर जाते हैं और यह संख्या कोविड से भी ज्यादा है। एक टी.बी. का रोगी 10 से 15 व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। परिवार एवं स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार का संकल्प है कि 2025 तक टी.बी. मुक्त भारत बनाना है। टी.बी. कार्यक्रमों को हम जन आंदोलन के रूप में ले रहे हैं । यदि प्रारंभ में रोग पता चले तो सिर्फ 6 महीने में टी.बी. का पूर्ण उपचार संभव है और सरकार मुफ्त में दवा दे रही है। हर टी.बी. पेशेंट का नोटिफिकेशन पोर्टल पर होना चाहिए ताकि हर मरीज चिन्हित हो सके।

स्वास्थ्य विभाग के सुपरवाइजर नवीन सिंह ने कहा कि टी.बी. की जांच व इलाज सरकारी अस्पताल में नि:शुल्क उपलब्ध है। टी.बी. के लक्षण 2 हफ्ते से ज्यादा खांसी आना, 2 हफ्ते से अधिक बुखार आना, बलगम कफ में खून आना , वजन कम होना, भूख का कम होना, रात में पसीना आना यह प्रमुख लक्षण है। निश्चय पोषण योजना के बारे में भी जानकारी दी। डॉ सुधा सिंह डायरेक्टर जन शिक्षण संस्थान ने कहा कि टी.बी. के प्रति लोगों की सोच में भी बदलाव आया है। इसके प्रति जागरूक रहना भी समाज की जिम्मेदारी है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए सभाजीत द्विवेदी प्रखर ने कहा 2021 से अब तक जांच में कुल 6432 छात्र संक्रमित पाये गए हैं और उनका उपचार हो रहा है। संचालन करते हुए मध्यस्था अधिकारी डॉ दिलीप सिंह ने कहा क्षय रोग में दवा का असर जानने के लिए होगी सीबीनाट और टूनाट से जांच। उक्त अवसर पर अरुण कुमार मौर्या, रामबचन, गिरीश कुमार श्रीवास्तव गिरीश, महेंद्र विश्वकर्मा, अनिल कुमार सिंह, अमरेश पांडेय, सामाजिक कार्यकर्ता रमेश यादव, फूलचंद भारती, शीराज़ अहमद आसरा दी होप,दिनेश सेठ, दिलीप सेठ, हिमांशु उपाध्याय, लोहू यादव इत्यादि बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। अंत में कार्यक्रम आयोजक संजय उपाध्याय पूर्व अध्यक्ष बाल न्यायालय/ संस्था सचिव ने आए हुए सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।