राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की चार दिवसीय बैठक शुक्रवार से मध्य प्रदेश के चित्रकूट शहर में

2
152

भोपाल, । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के प्रचारकों की चार दिवसीय बैठक शुक्रवार से मध्य प्रदेश के चित्रकूट शहर में शुरू होगी। आरएसएस के एक पदाधिकारी ने इसकी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत बैठक की अध्यक्षता करेंगे। उन्होंने कहा कि सीमित संख्या में क्षेत्र प्रचारक बैठक में शामिल होंगे, जबकि देश के विभिन्न हिस्सों से अन्य लोग ऑनलाइन कार्यक्रम में शामिल होंगे। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पांच दिवसीय अखिल भारतीय राष्ट्रीय चिंतन शिविर गुरुवार आठ जुलाई से 12 जुलाई तक चित्रकूट में होगा सतना जिले के चित्रकूट स्थित दीनदयाल अनुसंधान संस्थान (DRI) में होने वाली बैठक में COVID-19 के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाएगा।
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पांच दिवसीय अखिल भारतीय राष्ट्रीय चिंतन शिविर में शामिल होने संघ प्रमुख मोहन भागवत दो दिन पूर्व ही मंगलवार सुबह चित्रकूट पहुंच गए। दिल्ली से मानिकपुर फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन से चित्रकूट के कर्वी रेलवे स्टेशन में जेड प्लस सुरक्षा के बीच वे उतरे। सड़क मार्ग से वे मध्य प्रदेश के चित्रकूट पहुंचे। बैठक में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव सहित मप्र व उप्र की सरकारों के कार्यों की समीक्षा होगी। चित्रकूट के विकास व साधू-संतों के साथ भी अहम मुद्दों पर चर्चा संभावित है।
संघ के चिंतन शिविर में देशभर से एक दर्जन क्षेत्रीय प्रचारक सहित भाजपा के राष्ट्रीय नेता भी पहुंच रहे हैं। शिविर में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, मप्र व उप्र के मुख्यमंत्री के भी संघ प्रमुख से मुलाकात करने की संभावना जताई गई है। कई केंद्रीय मंत्रियों के भी पहुंचने की संभावना है। इसे देखते हुए मध्य प्रदेश के सतना, रीवा सहित उत्तर प्रदेश पुलिस ने सुरक्षा तगड़ी कर दी है। रीवा से एसएएफ की 9वीं बटालियन की दो कंपनियों को सुरक्षा में लगाया गया है। जबकि आरोग्यधाम की सुरक्षा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) ने अपने हाथ में ले ली है।

2 COMMENTS

  1. There are actually plenty of particulars like that to take into consideration. That may be a great point to bring up. I supply the ideas above as basic inspiration however clearly there are questions like the one you bring up the place an important thing will likely be working in trustworthy good faith. I don?t know if finest practices have emerged around things like that, but I am certain that your job is clearly identified as a fair game. Each boys and girls feel the impact of just a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here