रूस के पॉवर प्लांट से 20 हजार टन डीजल के रिसाव

0
134
रूस के साइबेरिया में एक पॉवर प्लांट से 20 हजार टन डीजल के रिसाव के बाद अंबरनाया नदी का रंग जो पहले सफेद था वह अब लाल हो गया है। राष्ट्रपति Vladimir Putin ने घटना की भयावहता को देखते हुए स्टेट इमरजेंसी की घोषणा कर दी है। भारी मात्रा में डीजल के अंबरनाया नदी में मिलने के बाद इसके सफाई के लिए युद्ध स्तर पर कार्रवाई जारी है। राष्ट्रपति पुतिन ने इस घटना पर कड़ी नाराजगी भी जाहिर की है।
साइबेरिया के जिस प्लांट से डीजल का रिसाव हुआ है वह नोरिल्स्क निकिल की एक इकाई है। यह कंपनी निकेल और पैलैडियम धातु का उत्पादन करने के मामले में दुनिया के शीर्ष कंपनियों में शामिल है। इस कंपनी में तेल का रिसाव शुक्रवार से ही शुरू हो गया था लेकिन, पर्याप्त रोकधाम के उपाय न करने के कारण दो दिनों में 20 हजार टन डीजल बह गया।
बताया जा रहा है कि प्लांट में तेल का रिसाव फ्यूल टैंक का एक पिलर धंसने से कारण शुरू हुआ था। यह टैंक बर्फीली कठोर जमीन पर बना हुआ था जो तापमान बढ़ने के बाद पिघलने लगी। इस घटना के बारे में कंपनी नोरिल्स्क निकिल की तरफ से अभी कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।
रूसी पर्यावरण विशेषज्ञों ने कहा है कि इस रिसाव से 350 वर्ग मील से ज्यादा एरिया प्रभावित है। यहां की अंबरनाया  नदी में 15 हजार टन पेट्रोलियम उत्पाद मिल गए हैं। जिसकी सफाई करना अब बहुत मुश्किल काम है।
विशेषज्ञों ने दावा किया है कि इस नदी को साफ करने की लागत 1.16 बिलियन यूरो तक पहुंच सकती है। ऐसी आशंका है कि प्रदूषण ग्रेट आर्कटिक स्टेट नेचर रिजर्व में फैल सकता है। इस रिजर्व में प्रदूषण के पहुंचने से जल के प्राणियो के जीवन को भारी नुकसान हो सकता है।