लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के सत्र के दौरान शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने विपक्ष द्वारा भगवान परशुराम के नाम पर की जा रही राजनीति पर जवाब दिया

0
45

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के सत्र के दौरान शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने विपक्ष द्वारा भगवान परशुराम के नाम पर की जा रही राजनीति पर जवाब दिया. सीएम योगी ने बिना विपक्ष का नाम लिए तंज कसते हुए कहा कि उन्हें मालूम हो गया है भारत के अंदर राम नाम से ही वैतरणी पार होने वाली है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘उन लोगों ने भी ये भाषा बोलनी शुरू कर दी है क्योंकि उन्हें मालूम है कि भारत के अंदर राम नाम से ही वैतरणी पार होने वाली है. बाकी कोई उसका आधार नहीं है और इस देश की जनता जनार्दन ने बार-बार ये साबित करके दिखाया है. ये वही लोग हैं जिन्होंने राम सेतु का भी विरोध किया था. जिन्होंने सांप्रदायिकता कानून के तहत देश की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने के का प्रयास किया था और समाज को बांटने का प्रयास किया था. आज फिर वो विभाजनकारी मंशा के रूप में आगे आ गए हैं और फिर से इस प्रकार कुत्सित राजनीति करने के लिए समाज को विभाजित करने को अग्रसर हैं.’

मुख्यमंत्री योगी ने आगे कहा, ‘जिन लोगों को राम की वास्तविकता पर ही विश्वास नहीं था. उन्हें राम की ताकत का एहसास अब तो हो रहा होगा. अब तक रोम की भाषा बोलने वाले लोग भी राम-राम चिल्लाने लगे हैं. भले ही वो परशुराम के बहाने क्यों ना हो लेकिन उन्होंने चिल्लाना तो शुरू किया है. राम का नाम तो ऐसा है कि आप जिस रूप में ले लें. राम का नाम चाहे परशुराम के नाम पर ले लें और चाहे मरा-मरा के नाम पर ले लें वो हर एक का उद्धार कर देते हैं.

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि, ‘राम -परशुराम में तात्विक रूप से कोई भेद नहीं है. दोनों विष्णु के अवतार हैं। शास्त्र में कोई भेद नहीं है. परशुराम के नाम में भी राम का नाम आता है. कुछ लोग राम और परशुराम में भेद बताकर गंदी सियासत करते हैं. जातिवादी, विभाजनकारी, कुत्सित मानसिकता रखते हैं. इसी वजह से देश की खुशी के साथ खुश नहीं हो सकते हैं. देश की खुशी के साथ वही लोग खुश हो सकते हैं. जिनमें मर्यादा और धैर्य हो’.

उन्होंने कहा कि, ‘आज जो लोग जाति की राजनीति कर रहे हैं. वो जातिवाद का झंडा ऊंचा कर रहे हैं. यही लोग एक समय में तिलक-तराजू के नाम पर जहर घोलते थे.’ अब वे अपने आपको रामभक्त साबित करने में जुटे हैं. झूठ का सहारा लेकर कुछ समय के लिए लोगों की आंखों में धूल झोंकी जा सकती है. लेकिन विधाता सब देख रहा है. समय आने पर देश जवाब देगा, जनता जवाब देगी.’

अयोध्या में बन रहे श्रीराम मंदिर पर बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि हम सभी को 492 वर्षों से इस क्षण की प्रतीक्षा थी. हम सब बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हम इस पल के गवाह बन पाए हैं. इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को ह्रदय से बधाई. उन्होंने कहा कि राम मंदिर का प्रसाद हर राज्य पहुंचेगा. कुम्भ की तरह ही हमारे ब्रांड एम्बेस्डर इसे पहुंचाने का काम करेंगे. इसके लिए हमारे प्रतिनिधि पूरे देश में प्रसाद लेकर जाएंगे.

आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह पर निशाना साधते हुए सीएम योगी ने कहा कि ‘हमने यूपी के लोगों को कोरोना से बचाने में महत्वपूर्ण काम किया है. लेकिन दिल्ली के कुछ नमूने यहां आकर पूछते हैं कि आपने लोगों के लिए क्या किया. अब हम उन्हें क्या बताएं हमने क्या-क्या किया. सीएम योगी ने दिल्ली और यूपी के कोरोना के आंकड़े पेश करके अपनी बात को स्पष्ट किया.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने प्रदेश की कानून-व्यवस्था दुरुस्त रखने की खातिर काफी जगह पर सख्ती भी की है. उपद्रव करने वालों को नहीं छोड़ा है. राज्य में हालात पहले से कहीं ज्यादा बेहतर हुए है.

मुख्यमंत्री ने सदन में 2016 से लेकर अब तक के तुलनात्मक आंकड़े पेश करते हुए कहा कि राज्य में अपराध का ग्राफ गिरा है. विपक्ष कानून व्यवस्था की बात करता है लेकिन विपक्ष कानून व्यवस्था की स्थिति के लिए ज्यादा बड़ा खतरा है.

सीएम योगी ने कहा कि 2016 से लेकर अब तक डकैती के मामलों में 74.5 फीसदी तक कमी आई है. वहीं लूट के मामलों में 65.3 फीसदी, हत्या के मामले में 26.43 फीसदी की कमी आई है. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने उत्तर प्रदेश को अन्य राज्यों के मुकाबले कहीं बेहतर स्थिति में रखा है.

मुख्यमंत्री योगी ने सदन को बताया कि राज्य में तीन तलाक को लेकर सबसे ज्यादा 1,434 मामले दर्ज किए गए और 265 लोगों की गिरफ्तारी हुई.

बता दें कि समाजवादी पार्टी ने भगवान परशुराम की भव्य मूर्ति लगाने का ऐलान किया है. वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती भी यूपी में सरकार बनने पर भगवान परशुराम की सपा से भी ऊंची भव्य मूर्ति लगाने का वादा कर चुकी हैं. इसके अलावा कांग्रेस की तरफ से भगवान परशुराम की जयंती पर सरकारी छुट्टी घोषित करने की मांग की गई है.