लता मंगेशकर के निधन से देश में शोक का लहर, देश-विदेश से करोड़ों लोग दे रहे हैं श्रद्दांजलि

2
87

श्रद्दांजलि

UNA NEWS

प्रख्यात गायिका लता मंगेशकर का रविवार सुबह मुंबई के ब्रीचकैंडी अस्पताल में निधन हो गया। वे 92 की थीं। लता मंगेशकर को 8 जनवरी को कोरोना से संक्रमित पाया गया था। इसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पातल में भर्ती करवाया गया। लता लगभग एक महीने से अस्पताल के आईसीयू में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थीं। केंद्र सरकार ने 6 व 7 फरवरी को राष्ट्रीय शोक घोषित किया है। उनके निधन की खबर से पूरे देश में शोक की लहर है। इस दौरान सभी स्थानों पर तिरंगा आधा झुका रहेगा।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी समेत तमाम दिग्गज नेताओं, अभिनेताओं और अन्य क्षेत्र से जुड़े लोगों ने लता मंगेशकर के निधन पर दुख व्यक्त किया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि लता जी का निधन उनके और दुनियाभर के लाखों लोगों के लिए हृदयविदारक है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुएट्वीट लिखा है- ‘मैं शब्दों से परे पीड़ा में हूं। दयालु और देखभाल करने वाली लता दीदी हमें छोड़कर चली गई हैं। वह हमारे देश में एक खालीपन छोड़ गई है जिसे भरा नहीं जा सकता। आने वाली पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति के एक दिग्गज के रूप में याद रखेंगी, जिनकी सुरीली आवाज में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की अद्वितीय क्षमता थी। ’

मोदी ने आगे कहा, ‘यह मेरा सम्मान है कि मुझे हमेशा लता दीदी से अपार स्नेह मिला. उनके साथ मेरी बातचीत अविस्मरणीय रहेगी। उनके परिवार से बात की और संवेदना व्यक्त की। ’ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने लिखा, ‘लता-दीदी एक असाधारण इंसान थीं। उनकी दिव्य आवाज हमेशा के लिए शांत हो गई है। लेकिन उसकी धुन अमर रहेगी, अनंत काल तक गूंजती रहेगी। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। ’


सोनिया गांधी ने शोक संदेश जारी कर स्वर कोकिला लता मंगेशकर को नमन करते हुए कहा, “स्वर कोकिला लता जी की मधुर आवाज आज मौन होने पर स्तब्ध हूं। एक युग का अंत हो गया। दिल छू लेने वाली आवाज, राष्ट्र प्रेम के गीत और लता दीदी का संघर्षमय जीवन सदा पीढ़ियों के लिए प्रेरणा रहेगा। उनकी अंतिम यात्रा में नमन व भावभीनी श्रद्धांजलि।”


वहीं कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपनी दादी और देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ लता मंगेशकर की एक पुरानी फोटो को शेयर करते हुए कहा, “भारतीय संगीत की बगिया में सुरों को चुन-चुन कर सजाने वाली सुर साम्राज्ञी सुश्री लता मंगेशकर जी के निधन का दुखद समाचार मिला।उनके निधन से भारतीय कला जगत को एक अपूर्णीय क्षति हुई है। ईश्वर लता जी को श्री चरणों में स्थान दें और इस दु:ख की घड़ी में परिजनों को कष्ट सहने का साहस दें।”


कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने लता मंगेशकर के निधन पर शोक जाहिर करते हुए ट्वीट कर कहा, “लता मंगेशकर जी के निधन का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। वह कई दशकों तक भारत की सबसे प्रिय आवाज बनी रहीं। उनकी सुनहरी आवाज अमर है और उनके प्रशंसकों के दिलों में हमेशा गूंजती रहेगी। उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।”
लता मंगेशकर के निधन की खबर से जहां एक ओर भारतीय सिनेमा उद्योग सदमे में है वहीं राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी इस खबर से शोक के बादल छा गये हैं, करोड़ लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं।
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री ने भी दुख ज़ाहिर किया है। चौधरी फ़वाद हुसैन ने ट्वीट किया, “एक महान गायिका नहीं रहीं। लता मंगेशकर सुरों की रानी थीं जिन्होंने दशकों तक संगीत की दुनिया पर राज किया। वह संगीत की बेताज रानी थीं। उनकी आवाज़ आने वाले समय में भी लोगों के दिलों पर राज करती रहेगी। ”


पड़ोसी मुल्क नेपाल के राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भी लता मंगेशकर के निधन पर शोक व्यक्त व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।


तो वहीँ, बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने भी एक संदेश जारी कर लिखा है- “प्रख्यात गायिका लता मंगेशकर ने संगीत के लिए जो अमूल्य योगदान दिया उससे वो ना केवल भारत, बल्कि पूरे उपमहाद्वीप और सारे विश्व में लोगों के दिलों में बसी रहेंगी। ”

इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने लता मंगेशकर के निधन के चलते महाराष्ट्र में एक दिन के सार्वजनिक अवकाश का एलान किया गया है।


तो वहीँ, लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देते हुए पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने आधे दिन के अवकाश का एलान किया।लताजी की मृत्यु पर ममता बनर्जी ने शोक प्रकट किया है।


वहीं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी लताजी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि, “लता दीदी का बचपन से ही संगीत के प्रति अद्वितीय समर्पण था। उनकी आवाज पूरे विश्व को ईश्वर की एक अनमोल देन थी। 7 दशकों तक उन्होंने अपनी मधुर वाणी से भारतीय संगीत को संवारा। उनके जाने से संगीत जगत में जो शून्य उत्पन्न हुआ है, उसे भर पाना असंभव है। उन्होंने ट्विट कर लिखा है कि, सुर व संगीत की पूरक लता दीदी ने अपनी सुर साधना व मंत्रमुग्ध कर देने वाली वाणी से न सिर्फ भारत बल्कि पूरे विश्व में हर पीढ़ी के जीवन को भारतीय संगीत की मिठास से सराबोर किया। संगीत जगत में उनके योगदान को शब्दों में पिरोना संभव नहीं है। उनका निधन मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।

अपने ट्वीट संदेश मेन समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि ” ऐ मेरे वतन के लोगों …. जरा याद करो स्वर वाणी”

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here