वर्कशॉप में धूल फांक रही हैं महिलाओं के लिए आई गुलाबी बसें: पृथ्वी सिंह

0
12

सिरसा। (सतीश बांसल ) महिलाओं व छात्राओं को बसों में समस्याओं का सामना न करना पड़े, इसके लिए सरकार की ओर से प्रदेशभर के डिपूओं में 150 गुलाबी बसें भेंट की गई थी, जिसके तहत सिरसा रोडवेज डिपो को 5 बसें मिली थीं, लेकिन विभागीय उदासीनता के चलते ये पांचों बसें रोडवेज वर्कशॉप में काफी समय से धूल फांक रही हैं। हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन रजिस्टर्ड नंबर 1 संबंधित सर्व कर्मचारी संघ सिरसा डिपो वरिष्ठ उपप्रधान व डबवाली सब डिपो प्रधान व कर्मचारी नेता पृथ्वी सिंह चाहर ने बताया कि सरकार ने महिलाओं के लिए गांवों से आने व जाने के लिए सभी डिपूओ में लगभग 150 गुलाबी बसें वितरित की थी। जो कि फरवरी 2020 से लेकर अप्रैल 2021 तक महिलाओं के लिए चली थी। इसके बाद इन गुलाबी बसों को कोरोना महामारी के प्रकोप के चलते एंबुलेंस का रूप दे दिया गया। चाहर ने बताया कि करीबन डेढ़ महीने एंबुलेंस के तौर पर यह बसें चली। उसके बाद से लेकर अब तक ये बसें वर्कशॉप में एक जगह खड़ी धूल फांक रही है। विभागीय उदासनीता के कारण ये बसें बंद पड़ी हैं, जिसके कारण भीड़ अधिक होने के कारण महिलाओं व छात्राओं का बसों में सफर करना मुश्किल हो गया है। अक्सर देखा गया है कि सुबह व दोपहर के समय बसों में भीड़ इस कदर होती है कि काफी बार तो महिलाओं व छात्राओं को खिड़कियों में लटककर सफर करना पड़ रहा है, जिसके कारण हर समय हादसे का अंदेशा बना रहता है। चाहर ने बताया कि इन बसों के चलने से जहां महिलाओं व छात्राओं का सफर आसान हो जाएगा, वहीं दूसरी बसों में भी भीड़ कम हो जाएगी, जिससे अन्य यात्रियों को परेशानियों से दो-चार नहीं होना पड़ेगा। इसलिए उनकी विभाग से मांग है कि कबाड़ बन रही इन बसों में फिर से रोड पर लाया जाए, ताकि आमजन को राहत मिल सके।