व्यापारी मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच के सिलसिले में निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वझे को छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) ले गई

5
202

मुंबई राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) व्यापारी मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच के सिलसिले में निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वझे को
छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) ले गई। हिरेन की जिस दिन मौत हुई थी, वझे ने उसी दिन यहीं से निकटवर्ती ठाणे के लिए ट्रेन पकड़ी थी।
सचिन वझे पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि चार मार्च की सीसीटीवी फुटेज में वझे सीएसएमसीट से ठाणे के लिए ट्रेन पकड़ते दिख थे। इसलिए चीजों को समझने के लिए एनआईए मंगलवार रात वझे का स्टेशन ले गई। इसके बाद एनआईए वझे को ठाणे जिले के मुंब्रा क्रीक ले गई, जहां से पांच मार्च को हिरेन का शव बरामद हुआ था।
जांच एजेंसी 25 फरवरी को दक्षिण मुंबई में मुकेश अंबानी के घर के पास एक एसयूवी से जिलेटिन की छड़ें बरामद होने और फिर हिरेन की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के बाद वझे एनआईए की जांच के घेरे में आए थे। वाजे को 13 मार्च को गिरफ्तार किया गया था।
अधिकारी ने बताया कि सोमवार को सीएसएमटी पर जांच के दौरान एनआईए के अधिकारियों ने वझे का ‘प्लेटफॉर्म नंबर’-चार पर चलने को कहा, ताकि सीसीटीवी फुटेज में दिखे व्यक्ति और उनकी चाल की तुलना की जा सके। इसके बाद वझे को मुंब्रा क्रीक ले जाया गया, जहां पिछले महीने हिरेन का शव बरामद हुआ था।
उन्होंने बताया कि एनआईए टीम सीएसएमटी और मुंब्रा क्रीक पर एक-एक घंटे से ज्यादा रुकी। उनके साथ कुछ चश्मदीद, फोरेंसिक विशेषज्ञ और रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारी भी मौजूद थे।
इससे पहले, एनआईए वझे को एक पांच सितारा होटल, जहां वह नकली पहचान पत्र दिखाकर रुके थे, उपनगरीय अंधेरी स्थित एक कार्यालय, जहां कथित तौर पर पूरी साजिश रचने के लिए बैठक की गई थी और मुंब्रा क्रीक सहित कई स्थानों पर ले जा चुकी है। एनआई ने जांच के दौरान वझे द्वारा इस्तेमाल किए गए जाने वाले कई महंगे वाहन भी जब्त किए हैं।

5 COMMENTS

  1. Its such as you read my mind! You appear to know so much about this, such as you wrote the e book in it or something. I feel that you just can do with a few percent to drive the message home a little bit, however other than that, this is excellent blog. A great read. I will definitely be back.

  2. You really make it seem so easy with your presentation but I find this topic to be really something that I think I would never understand. It seems too complicated and very broad for me. I’m looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  3. I wish to point out my passion for your kindness for individuals that need help with this particular situation. Your special dedication to getting the message up and down had been extremely invaluable and has truly allowed employees like me to achieve their goals. Your own important advice entails a whole lot to me and still more to my peers. Regards; from all of us.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here