संवेदनशील पुलिस व्यवस्था पर ऑनलाइन वेबिनार का आयोजन

0
90

इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल रिस्पांसिबिलिटी एंड अकाउंटेबिलिटी (इसरा) तथा संकल्पित मंदसौर के संयुक्त तत्वधान में (खाकी में इंसान व पुलिसिंग व्यवस्था) विषय पर ऑनलाइन वेबिनार का आयोजन किया गया। जहाँ मुख्य अतिथि के रूप में अशोक कुमार (आईपीएस) पुलिस महानिदेशक (उत्तराखंड) उपस्थित रहे। कार्यक्रम की शुरुआत इसरा संस्थान के महाप्रबंधक अभिषेक अग्रवाल ने संस्था का संक्षिप्त परिचय देते हुए की जहाँ उन्होंने बताया कि किस प्रकार इसरा संस्थान केन्द्र सरकार व 28 राज्य सरकारों द्वारा चलाई जा रही लोक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारियों को लेकर जागरूकता फैलाने का कार्य करता है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अशोक कुमार ने स्मार्ट , संवेदनशील, पीड़ित केन्द्रित पुलिस पर विशेष बल देते हुए कई बिंदुओं पर चर्चा की जिसमें उन्होंने मिशन हौसला, ऑपरेशन मुक्ति, साइबर सुरक्षा को लेकर किये कार्यों पर विस्तारपूर्वक अपनी बातें रखी। उन्होंने सिविल सेवा की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों को भी कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं से अवगत कराया जिससे उन्हें सफलता हासिल करने में सहायता मिल सके। कार्यक्रम में अशोक कुमार द्वारा लिखित (खाकी में इंसान) पर भी चर्चा की गई यह पुस्तक मानवीय संवेदना में आई खामियों की पड़ताल के वक्त दोष मढ़ देने की सहज वृत्ति की जगह खामियों को खत्म करने की दृढ़ इच्छाशक्ति और कुछ कर दिखाने के जज्बे को सलाम करने की प्रगतिशील प्रेरणा की बुनियाद है जिस पर चलकर समाज में व्यापक बदलाव लायें जा सकते है। इसी कड़ी में इस पुस्तक पर भी चर्चा की गई जिसमें सेवक नही साहब है हम (व्यंग्यात्मक), अंधी दौड़, आधी दुनिया की दुविधा, पुलिस मिर्थक और यथार्थ प्रमुख थे। इस कार्यक्रम से जुड़े प्रतिभागियों ने बताया की इस कार्यक्रम से उन्हें एक नई ऊर्जा और प्रेरणा मिली है जिसे वह आने वाले समय में अच्छे परिणामों में परिवर्तित करने का प्रयास करेंगे। कार्यक्रम के अंत में संकल्पित मन्दसौर के संस्थापक दिलीप धनराज गुप्ता ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कार्यक्रम समाप्ति की घोषणा की इस कार्यक्रम में जीवन शाहा, सुनील कंडारा, मोहित रहेजा सहित अनेक प्रतिभागीगण मौजूद रहे।