सफूरा ज़रगर को रिहा तथा भाजपा नेता कपिल मिश्रा को गिरफ्तारी कि मांग:बिहार महिला समाज

0
273
सफूरा ज़रग़र के बारे में अभद्र टिप्पणी और दुष्प्रचार करने वालों पर कार्रवाई और सफूरा समेत सीएए विरोधी आंदोलन  में सक्रिय रही छात्र नेताओं की रिहाई की मांग को लेकर बिहार महिला समाज ने आज  धरना दिया।
 बिहार महिला समाज की  कार्यकारी अध्यक्ष निवेदिता झा ने कहा कि इस महामारी के समय का सरकार गलत इस्तेमाल कर रही है। सी ए ए विरोधी आंदोलन में शामिल सभी आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया जा रहा है और महिलाओं का दमन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सफूरा जरग़र  को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वो गर्भवति है। ये अमानवीय है। और नागरिकों के अधिकारों पर हमला है। उन्होंने आगाह किया की अगर सफूरा समेत जेल में बंद तमाम आंदोलनकारियों को रिहा नहीं किया गया तो देश व्यापी आंदोलन तेज होंगे।
इस मुद्दे को लेकर आज राज्य के सभी जिलों पर महिलाओं ने धरना दिया । बिहार महिला समाज ने सफूरा की रिहाई और बीजेपी नेता की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की है और आगाह किया की अगर कार्यवाही नहीं हुई तो महिलाएं सड़कों पर उतरेंगी।
सफूरा जरग़र नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चले आंदोलन में सक्रिय रही है. लॉकडाउन के दौर में सफूरा को दिल्ली में दंगा भड़काने का झूठा आरोप लगाकर गिरफ्तार कर लिया गया है. गिरफ्तारी के समय सफूरा 3 महीने की गर्भवती थी.इसी आधार पर लोगों ने जब सफूरा को रिहा करने की मांग उठाई तो भाजपा नेता कपिल मिश्रा और भाजपा आईटी सेल ने सोशल मीडिया पर सफूरा का चरित्र हनन शुरू कर दिया है । देश के प्रधानमंत्री और महिला आयोग इस पूरे मामले में चुप्पी साधे हुए हैं. इसलिए महिला संगठनों ने प्रधान मंत्री मोदी और राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष से सवाल करते हुए कहा है कि-
– भाजपा नेता कपिल मिश्रा द्वारा सफूरा के गर्भावस्था पर भद्दे ट्वीट पर आप चुप क्यों? उनपर कार्यवाही क्यों नहीं?
जहां हरे और नारंगी ज़ोन में भी गर्भवती महिलाओं से कहा जा रहा है कि वे घर में रहें, तो गर्भवती सफूरा को कोरोना के खतरे के समय तिहाड़ जेल में क्यों रखा गया?
 दिल्ली दंगों को भड़काने वाले कपिल मिश्रा गिरफ्तार क्यों नहीं? CAA विरोधी महिला आंदोलन में सक्रिय सफूरा, इशरत, गुलफिशा जेल में क्यों?
महिलाओं ने आज  अपने -अपने घरों में बैठकर 11 बजे से 2 बजे तक धरना दिया तथा तख्तियों, नारों, या वीडियो के जरिए इन सवालों को उठाया।. महिला समाज कि तरफ से आज पटना में रिंकू, मोना झा, अनामिका प्रियेदर्शनी, सुशीला सहाय समेत कई महिलाओं ने धरना दिया।  बिहार महिला समाज कि अध्यक्ष सुशीला सहाय ने कहा कि सफूरा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी और विरोधी दुष्प्रचार, हम सब महिलाओं पर हमला है.  इसलिए लॉकडाउन के अंदर से ही हम सब ने सफूरा को प्यार और साझेदारी भेजा,  उन्होंने CAA विरोधी कार्यकर्ताओं की रिहाई की मांग की और कपिल मिश्रा पर तुरंत कार्यवाही करने की मांग की।