शिक्षा के साथ आत्मचेतना एवं जागरूकता ही महिला सशक्तिकरण का उपायडॉ. बेग

  • उमंग-2019 के अन्तर्गत वादविवाद प्रतियोगिता एवं समुह चर्चा का आयोजन

आत्मचेतना एवं जागरूकता ही महिला सशक्तिकरण का एक मात्र उपाय है। यह विचार आज सिर्फ किताबी ज्ञान ही शिक्षा का उद्देश्य नहीं है बल्कि विद्यार्थियों को समाज एवं राष्ट्र के समसामयिक मुद्दो पर भी अपनी पेनी नज़र रखनी चाहिए तभी शिक्षा के वास्तविक उद्देश्यों कि प्राप्ति संभव है। यह बात जेएलएन एज्युकेशनल ग्रुप के निदेशक डॉ. आजम बेग ने आयोजित उमंग 2019 सांस्कृतिक समारोह के दौरान उपस्थित छात्र-छात्राओं से कही।

संस्था के मीडिया प्रभारी मो. शरीफ ने जानकारी देते हुए बताया कि सांस्कृतिक सप्ताह उमंग-2019 के दूसरे दिन आज जेएलएन केम्पस में सांस्कृतिक समारोह का आयोजित किया। जिसमें महिला सशक्तिकरण,अवसर एवं चुनौतियां जैसे विषय पर भाषण प्रतियोगिता, जी.एस.टी. एवं नोट बंदी विषय पर समुह परिचर्चा, एकल एवं समुह गायन सहित अनेक प्रतियोगिता आयोजित हुई।

संस्था में आयोजित भाषण प्रतियोगिता में जेएलएन महावि़द्यालय के छात्र-छात्राओं ने महिला सशक्तिकरण के मुद्दे पर खुलकर अपने विचार रखे। प्रतिभागियों ने कहा कि विज्ञान और शिक्षा के इस युग में भी हमारे देश में महिलाओं की स्थिती अभी भी चिन्ता जनक है। अभी भी कन्या भ्रुण हत्या, दहेज प्रथा, बाल विवाह जैसी अनेक कुप्रथाऐं हमारे समाज में प्रचलित है, जो महिला सशक्तिकरण के रास्ते की सबसे बड़ी बाधाऐं है। प्रतिभागियों ने कहा कि महिला को सशक्त करना है तो उसे आत्मसम्मान के साथ-साथ हर क्षेत्र में समानता के अवसर प्रदान करने होगे।

समारोह में जीएसटी एवं नोटबंदी पर आयोजित परिचर्चा में प्रतिभागियों ने इनके गुण-अवगुण एवं नकारात्मक-सकारात्मक प्रभावों पर सारगर्भित एवं तथ्यात्मक विचार रखे। प्रतिभागियों ने जीएसटी एवं नोटबंदी के बाद उपजे हालात, इसकी सफलता-असफलता एवं आवश्यकता आदि पर चर्चा की। प्रातिभागियों ने कहा कि जीएसटी एवं नोटबंदी भारत सरकार का एक सख्त फैसला था, जिसके वांछित लाभ देश को नहीं मिलेने से देश की जनता के समक्ष कई दुष्परिणाम के रूप में एक समस्या खड़ी हो गयी।

इस अवसर पर आयोजित भाषण प्रतियोगिता एवं जीएसटी, नोटबंदी पर परिचर्चा के निर्णायक दैनिक भास्कर के स्थानीय संवाददाता भुवनेश शर्मा, जननायक के पत्रकार सीपी सेन, सांगोद न्युज चैनल संवाददाता रवि रठौर एवं बृजमोहन राठौर थे। भाषण प्रतियोगिता में शिवांगी गौत्तम बीएड द्वितीय वर्ष प्रथम एवं द्वितीय वर्ष की ही अंजली मेहता द्वितीय स्थान पर रही। वही, जीएसटी एवं नोटबंदी पर आयोजित परिचर्चा में बीएड द्वितीय वर्ष के प्रीति शर्मा और राजेन्द्र कुमार गोचर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया।

मो. शरीफ ने बताया कि सांस्कृतिक सप्ताह के तहत बुधवार को आउटडोर गेम्स एवं प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।समारोह को पत्रकार भुवनेश शर्मा, रवि रठौर,सीपी सेन भी सम्बोधित किया।

 

जेएलएन संस्थान ने शहीद के बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने का सौंपा संकल्प पत्र एवं सहायता राशि

 

कस्बे की जेएलएन एज्युकेशनल ग्रुप के सांस्कृतिक सप्ताह के अन्तर्गत मंगलवार को जेएलएन बी.एड. कॉलेज एवं संस्कार एकेडमी के विद्यार्थियों के अंशदान के साथ ही जेएलएन ग्रुप में कार्यरत स्टाफ के एक दिन के वेतन से एकत्रित इकत्तीस हजार रूपये की नकद राशि शहीद के गांव विनोदकलां पहुंचकर संस्था निदेशक डॉ. आजम बैग के नेतृत्व में संस्था के छात्र प्रतिनिधी, स्टाफ एवं डॉ. अशरफ बैग ने शहीद कि वीरांगना मधुबाला मीणा को सौंपी। वहीं,संस्था प्रतिनिधियों ने शहीद के बच्चों को जे.एल.एन. संस्थान में निःशुल्क शिक्षा देने संबधी घोषणा -पत्र भी सौंपा।

जेएलएन एजुकेशनल ग्रुप में कार्यरत कार्मिकों से एकत्रित एक दिन का वेतन एकत्रित कर 21 हजार की नकद राशि शहीद हेमराज के परिजनों को सौंपी।साथ ही संस्था प्रतिनिधीयों ने शहीद के बच्चों को जेएलएल संस्थान में निशुल्क शिक्षा देने से संबंधित घोषणा पत्र  दिया। इससे पूर्व जेएलएन ग्रुप के निदेशक  डॉ.आजम बेग व सचिव डॉ. अशरफ बेग ने विद्यार्थीयों के साथ विनोदकलां गांव पहुंचकर शहीद हेमराज मीणा के समाधि स्थल पर पुष्पचक्र अर्पित श्रद्धांजलि दी। उललेखित है कि जेएलएन एज्युकेशनल ग्रुप पूर्व में भी शहीद के परिवार को एक लाख रूपये सहायता राशि के रूप में दिये जा चुके है।