सांप्रदायिक सद्भाव और सर्वोच्च बलिदान का प्रतीक बना मोहर्रम

4
41

UNA News
Kaimur Bureau

कैमूर जिले के मोहनिया में इस बार मोहर्रम का त्योहार सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक बनकर उभरा। पूरे देश में जिस तरह का समप्रदयिक उन्माद फैलाने की कुछ राजनैतिक दलों, संगठनों और सरारती तत्वों की साजिश चल रही है वहीं भारत की गंगा-जमुनी तहज़ीब का प्रतीक बन कर मोहर्रम का त्योहार सामने आया है। स्थानीय मोहनीय प्रखण्ड में बहुत शानदार तरीके से मोहर्रम का त्योहार मनाया गया जहां हजारों की संख्या में सभी धर्मों के लोगों ने मिलकर ताजिया निकाला।

यहाँ की ताजिया कमेटी में हिन्दू मुसलमान दोनों ही हैं और पुराने जमाने से चली आ रही यह परंपरा यहाँ भी कायम है। मोहारम कमेटी के सदस्य शंकर कैमूरी ने बताया कि कर्बला में जिस सर्वोच्च बलिदान से इतिहास हुसैन ने बनाया वो सदियों तक समाज को प्रेरित करता रहेगा।

सद्भावना समिति के अध्यक्ष दीनानाथ सिंह ने बताया कि बिहार के मोहनिया में सद्भावना कार्यक्रम मनाया, ताजिया के खलीफा और दुर्गापूजा समिति लोगों को एक मंच पर बैठाया गया और समप्रदयिक सद्भाव का मिसाल कायम किया गया। सभी ताजिया संघ के सदस्य और दुर्गापूजा समिति के सदस्य एक मंच पर बैठकर पूरे बिहार को सांप्रदायिक सद्भाव का संदेश दिया है। इसके पहले यहाँ दरगाह पर कवाली का कार्यक्रम भी कराया गया। कोरोना के चलते दो साल तक कार्यक्रम तो नहीं हो पाया लेकिन अब नियमित रूप से कार्यक्रम होंगे।

4 COMMENTS

  1. Aliexpress – это популярный интернет-магазин электроники, модной одежды и обуви, аксессуаров,
    товаров для дома и многих других товаров от китайских производителей.
    Широкий ассортимент продукции представлен
    более 100 миллионами изделий по
    низким ценам. http://amhomelife.biz/__media__/js/netsoltrademark.php?d=tel.co.ua

  2. Hi, Neat post. There is a problem along with your website in internet explorer,
    could test this? IE still is the market chief and a good part of other folks will omit
    your wonderful writing because of this problem.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here