कार्य में लापरवाही बरतने वाले जिले के 19 बीसीएम पर कार्रवाई हुई है। कलेक्ट्रेट के डीआरडीए सभा भवन में जिला समन्वय समिति की बैठक में जिलाधिकारी पंकज दीक्षित ने सभी बीसीएम का तीन-तीन दिनों का वेतन स्थगित करने का निर्देश दिया। आयुष्मान भारत योजना में बीसीएम द्वारा किया गया कार्य संतोषजनक नहीं मिला। निर्देश के बाद भी कार्य में प्रगति देखने को नहीं मिली। इस कारण वेतन स्थगित करते हुए सभी बीसीएम से स्पष्टीकरण की मांग की गई है। जवाब संतोषजनक नहीं मिलने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण कम होने के कारण नासरीगंज के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को फटकार लगी। डीएम ने कहा कि कार्य में सुधार नहीं हुआ तो कार्रवाई के लिए तैयार रहेंगे। मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना की समीक्षा हुई। बैठक में अनुपस्थित रहने वाले कई अधिकारियों का वेतन स्थगित करते हुए डीएम ने स्पष्टीकरण की मांग की है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित कई योजनाओं की समीक्षा हुई।

तम्बाकू मुक्त बनेगा जिला

डीपीआरओ किशोर कुमार आनंद ने बताया कि जिला को तम्बाकू मुक्त बनाया जाएगा। इस पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी। तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम कोटपा के तहत चरणवद्ध तरीके से अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए सिड्स नाम की एजेंसी सहयोग कर रही है। अभियान के तहत तम्बाकू सेवन करने वालों से लेकर बेचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए किन-किन विभागों द्वारा छापेमारी अभियान चलाया जाएगा, जिलाधिकारी द्वारा नौ-दस जून को सूचित किया जाएगा। शिक्षा विभाग व आइसीडीएस के अधिकारियों से विभागों व स्कूलों में तम्बाकू नियंत्रण से संबंधित स्लोगन लिखवाने को कहा गया है। तम्बाकू से होने वाले बीमारियों के बारे में स्कूलों में बताया जाएगा। अभियान में पुलिस पदाधिकारियों को शामिल किया गया है। विदित हो कि शराब मुक्त के बाद अब तंबाकू मुक्त जिला बनाने के लिए अभियान शुरू किया गया है। बैठक में सिविल सर्जन डा.जनार्दन शर्मा, आईसीडीएस की डीपीओ सुनिता, डीईओ प्रेमचंद, डीएस डा. केएन तिवारी, संजीव मुधकर, डीपीएम के अलावा सभी सीडीपीओ, प्राचार्य आदि थे।