सासाराम संवाददाता-कोई ताकत नहीं, जो आरक्षण समाप्त कर दे : नीतीश

एनडीए पर आरक्षण समाप्त करने जैसे मनगढ़ंत आरोप लगाने वालों से सावधान रहने की जरूरत है। जिन्हें संविधान का क, ख, ग नहीं आता है, वे संविधान बचाने की बात कहते हैं। इस धरती पर किसी में ताकत नहीं है, जो आरक्षण समाप्त कर दे। ये बातें बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कही। वह करहगर में एनडीए प्रत्याशी प्रत्याशी छेदी पासवान, नोखा व दाउदनगर में प्रत्याशी महाबली सिंह व कलेर में प्रत्याशी चंदेश्वर प्रसाद के समर्थन में आयोजित सभाओं में बोल रहे थे।

सीएम ने कहा कि आपने 15 वर्षों तक पति-पत्नी का शासन देखा है। सभी क्षेत्रों में अराजक स्थिति थी। कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं थी। जब आपने मुझे मौका दिया तो कानून का राज कायम हुआ। हर तबके तथा सभी इलाकों में विकास शुरू किया गया। बिहार अब नरसंहारों के दौर से निकल चुका है। उन्होंने कहा कि मैंने गांधी मैदान में घोषणा की थी कि जब तक बिहार के हर घर तक बिजली नहीं पहुंचा दूंगा, चुनाव नहीं लड़ूंगा। उसे मैंने पूरा किया है। अब लालटेन युग समाप्त हो चुका है। बिजली का युग आ गया है। सीएम ने कहा कि यह चुनाव देश के मान-सम्मान का चुनाव है। देश के विकास की गति जहां सात प्रतिशत है वहीं बिहार के विकास की दर इससे दोगुनी है। केंद्र सरकार ने गरीबों के उत्थान के लिए उज्ज्वला योजना, आयुष्मान भारत योजना, किसान सम्मान निधि योजना, कौशल विकास योजना आदि शुरू की, जिससे देश तरक्की कर रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार की जनता की सेवा को अपना धर्म समझ करके काम करते आया हूं। जबकि कुछ लोगों के लिए राजनीति धन कमाने व माल बनाने का साधन बन गया है। उन्होंने कहा कि हर घर नल का जल योजना तथा पक्की न-ली गली योजना चलाई गई है।