सुनेल

0
38

जीजा ही निकला साले का कातिल

किशोर के ब्लाइंड मर्डर का पर्दाफाश, आरोपी गिरफ्तार

सुनेल। थाना क्षेत्र के कड़ोदिया में घर मे मृत मिले किशोर की मौत का चार दिन में पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए किशोर की हत्या के कंरने वाले उसके जीजा को गिरफ्तार किया है।

सुनेल थानाधिकारी ने बताया कि गत 12 अप्रेल को कड़ोदिया निवासी घीसालाल ने दर्ज करवाई रिपोर्ट में बताया था कि वह अपने परिवार के साथ खेत पर बनी टापरी में रहता है। उसका बड़ा लड़का दीपक गांव के मकान में रहता था। 11 अप्रेल की शाम को वह कुएं पर था और  बड़ा पुत्र दीपक गांव में घर पर ही था। 12 अप्रेल को सुबह उसके छोटा पुत्र ने गांव में घर पर जाकर दीपक को आवाज़ दी, लेकिन उसने दरवाज़ा नही खोला तो वह अपनी बहन राजेश बाई को उसके घर से बुला लाया। दोनों ने अंदर देखा तो दीपक की लाश पड़ी हुई थी। सूचना पर सभी परिजन घर पहुंचे। दीपक के गले मे रस्सी के फंदे के निशान थे। पुलिस ने मृतक के पिता की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर लिया।

मामले को गंभीर मानते हुए पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चंदनदान बारहठ, पिड़ावा वृताधिकारी वृद्धिचंद गुर्जर के निर्देशन में सुनेल थानाधिकारी जितेंद्र सिंह शेखावत के नेतृत्व में टीम गठित कर मामले की तफ्तीश की गई। इस दौरान संदिग्धों से पूछताछ व मोबाइल काल डिटेल भी खंगाली गई। इसमें मृतक के जीजा सुरेश भील की भूमिका संदिग्ध लगी, जिस पर सुरेश से कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने बिजली के तार से गला घोंटकर दीपक की हत्या करना कबूल कर लिया।

इस कारण से की हत्या

आरोपी सुरेश भील मृतक दीपक का जीजा है जो मध्यप्रदेश के आगर जिले के सुसनेर थाना क्षेत्र के नांदना में रहता है। आरोपी ने शराब के नशे में अपनी पत्नी की पिटाई की थी। जिससे नाराज़ होकर आरोपी की पत्नी संजुबाई अपने पीहर कड़ोदिया आकर माता-पिता के साथ रह रही थी। कई बार सुरेश ने ससुराल वालों से पत्नी को साथ भेजने को कहा, लेकिन संजुबाई के माता पिता उसे सुरेश के साथ नही भेज रहे थे  जिसकी रंजिश के चलते सुरेश ने साले दीपक की हत्या कर दी। हत्या का पर्दाफाश करने में उपनिरीक्षक शेखावत के साथ हेडकांस्टेबल निरंजन कुमार, दौलतराम, कांस्टेबल दिनेश कुमार, जगदीश पंकज, मुकेश कुमार, प्रेमाराम व सुरेंद्र सिंह शामिल रहे।