स्नेहलता को मिली डॉक्टरेट की उपाधि

2
100

सिरसा। गांव जोधपुरिया निवासी स्नेहलता ने महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी, बीकानेर से यूनिर्सिटी के डीन और वर्तमान ग्रामोत्थान विद्यापीठ कॉलेज ऑफ एजुकेशन, संगरिया के प्रिंसीपल डा. सुरेंद्र कुमार सहारण के मार्गदर्शन में अपना शोध कार्य पूरा करते हुए पीएचडी की उपाधि ग्रहण की है। जोधपुरिया निवासी स्नेहलता मूलत: रतिया के गांव लहरिया में शादीशुदा हैं। स्नेहलता ने बताया कि उन्होंने अपने पीएचडी के शोध कार्य में हरियाणा राज्य के वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के छात्रों की ई-लर्निंग के प्रति अभिवृत्ति, साइबर अपराध और साइबर संस्कृति का अध्ययन किया। चूंकि आज का युग इंटरनेट और तकनीक का युग है और भविष्य में ई-लर्निंग अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करेगा, जिसमें विद्यार्थियों को साइबर अपराध और साइबर संस्कृति की जानकारी होना अनिवार्य होगा। स्नेहलता ने बताया कि उनका यह शोध एक मशाल के रूप में पथ प्रदर्शन का कार्य करेगा। स्नेहलता ने बताया कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सेमिनारों में भी उन्होंने अनेक शोध प्रस्तुत किए हैं। इस शोध कार्य में में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रों का अनुभव भी शामिल किया गया है। जोकि भावी शोधार्थियों के लिए उपयोगी साबित होगा। उन्होंने बताया कि जीजे यूनिवर्सिटी हिसार की वरिष्ठ प्रो. डा. वंदना पूूनियां व चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय, सिरसा की वरिष्ठ प्रो. डा. निवेदिता का भी इस शोध कार्य की सफलता में बहुत बड़ा योगदान रहा। उन्होंने शोध कार्य की सफलता के लिए तिरूपति शिक्षण संस्थान, रतिया के चैयरमेन प्रवीन गोयल, डायरेक्टर सौरभ गोयल व तिरूपति शिक्षण संस्थान के समस्त स्टाफ का आभार जताया।
सिरसा से सतीश बंसल की रिपोर्ट

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here