कुल्लू जिला मैं सरकारी डिपो के राशन को लेकर लोगों में काफी आक्रोश देखने को मिला है मामला भुंतर के गडास मैं डिपू के राशन का है जहां लोगों का कहना है कि जो उन्हें डिपू से आटा लिया है वह पूरी तरह से सीमेंट की तरह जमा हुआ है जिसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें डिपो से लिए हुए आटे को बुरी हालत में दर्शाया गया है जिसमें एक व्यक्ति का कहना है की सरकारी डिपो के राशन मैं जो आटा हमें खाने के लिए दिया जाता है वह आटा है कि सीमेंट इतना ही नहीं उन्होंने कहां की इस सीमेंट जैसे आटे को अगर हम खाए तो हमारा क्या हाल होगा उन्होंने कहा कि हम गरीब दो ढाई सौ रुपया दिहाड़ी कमाते हैं और महीने के बाद जब हम राशन के लिए सरकारी डिपो पर जाते हैं तो सामने से हमें सीमेंट वाला आटा मिलता है जब इस पर सवाल किया जाता है तो आगे से जवाब आता है कि यहां पर ऐसा ही आता है आपको लेना है तो लो नहीं तो रहने दो मंत्रियों का कहना है की हम हिमाचल की गरीबी को हटाए गया हिमाचल में इस आटे की ऐसी हालत देखकर कुछ लोगों का कहना है कि सरकार इससे अच्छा तो हमारे लिए जहर तैयार करें और हमें दे हिमाचल में अभी भी कहीं जगह पर घटिया क्वालिटी का अनाज गरीब परिवारों को दिया जाता है इस पर ना तो हिमाचल सरकार कुछ कर रही है और ना ही गांव के प्रधान कुछ कर पा रहा है ऐसे में लगता है कि यह सब लोग खाद्य मंत्री से लेकर गांव के सरपंच तक और डिपो में सप्लाई करने वाले सब के सब मिले हुए हैं अगर यही हाल रहा तो हिमाचल के गरीब लोग कहां जाएंगे किसके पास अपनी समस्या को सुनाएगी हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कुछ नहीं कर पा रहे हैं उन्हें तो सिर्फ अपने मंत्रियों की चिंता पड़ी होती है गरीब जनता कि कोई परवाह नहीं है