हिमाचल न्यूज़ ;हिमाचल में मोदी के खिलाफ एकजुट हुए मजदूर किसान

0
1

सीटू व अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय आह्वान पर 44 श्रम कानूनों को खत्म करके 4 प्रस्तावित श्रम सहिताओ के खिलाफ हिमाचल प्रदेश के शिमला रामपुर रोहड़ू सोलन परमाणु नहान किन्नौर मंडी धर्मपुर सरकाघाट कुल्लू चंबा धर्मशाला हमीरपुर उना सहित 25 जगहों पर जबरदस्त प्रदर्शन किया गया इसी कड़ी मैं शिमला के डीसी ऑफिस के बार मजदूर संगठन सीटू व हिमाचल किसान सभा द्वारा संयुक्त रूप से प्रदर्शन करते हुए केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की धरना प्रदर्शन के दौरान किसान सभा ने राष्ट्रपति से मजदूरों के पक्ष के श्रम कानूनों को तुरंत बाल करने की मांग की प्रदर्शन के दौरान सीटू व हिमाचल किसान सभा के नेताओं ने कहां की केंद्र के मोदी सरकार सत्ता में दोबारा आने के बाद जल्दबाजी में श्रम कानूनों को खत्म करने की साजिश रच रही है इस जल्दबाजी के पीछे उसकी माशा पूंजीपतियों व उद्योगपतियों को भारी फायदा पहुंचाना है इस सरकार ने 1923 से लेकर आज तक बने 44 श्रम कानूनों को खत्म करके केवल 4 संहिता सहितओ मैं अब्दुल करने की शुरुआत वर्तमान संसद सत्र से कर दी है इसमें से केंद्र सरकार द्वारा 4 श्रम कानूनों को खत्म करके वेतन सहित अधिनियम 2019 तथा 13 श्रम कानूनों को खत्म करके व्यवसायिक स्वास्थ्य सुरक्षा कामकाजी स्थिति सहित विधेयक 2019 सहित 2 श्रम सहिताओ को लोकसभा पारित कर दिया है प्रदर्शन में सीटू राज्य अध्यक्ष जगत राम राज्य सचिव विजेंद्र मेहरा हिमाचल किसान राज्य अध्यक्ष कुलदीप तनवर जिला अध्यक्ष सत्यवान पुंडीर रामाकांत मिश्रा हिमा देवी किशोरी गढ़वालीया सहित अन्य गणमान्य लोगों ने और किसानों ने भाग लिया