दृष्टि दिव्यांग कर्मचारी को 9 साल से नहीं मिला सरकारी आवास प्रशासन को दी ये चेतावनी

दृष्टि दिव्यांग कर्मचारी की सरकारी आवास की फाइल पर पिछले 9 वर्ष से जमी धूल छटने का नाम नहीं ले रही है उनके बाद आवेदन करने वाले कर्मचारियों को सरकारी आवास मिल गया है लेकिन उन्हें लगातार नजरअंदाज किया जा रहा है सरकारी आवास के लिए लगातार हो रही अनदेखी से परेशान पंचायती राज जिला कार्यालय में चपरासी के पद पर कार्यरत डोमेश्वर कुमार ने अब जिला प्रशासन को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है उन्होंने कहा कि उन्हें निर्धारित समय में सरकारी आवास आवंटन नहीं हुआ तो वह डीसी कार्यालय के बाहर आमरण अनशन पर बैठ जाएंगे उनका कहना है कि पिछले 9 वर्षों से लगातार डीसी कार्यालय मैं जाकर सरकारी आवास के लिए आवेदन कर रहे हैं लेकिन उन्हें अभी तक इसका आवंटन नहीं हुआ वही दृष्टि दिव्यांग कर्मचारी कल्याण संघ के प्रदेशाध्यक्ष होने के साथ पंचायती राज जिला कर्मचारी महासंघ के जिला उपाध्यक्ष भी है स्थिति यह है कि अपने परिवार के साथ किराए के मकान में रहने को मजबूर है उनकी पत्नी लगातार बीमार रहती है जहां पर हुए रहते हैं वहां पर पानी की दिक्कत बहुत हैं उन्हें इस हालत में पानी ढोना पड़ता है उन्हें आरपीडी एक्ट 2016 हवाला देते हुए कहा कि इसमें दृष्टि दिव्यांग को सरकारी आवास शीघ्र आवंटित करने का प्रावधान है लेकिन उनके इस मामले में इस एक्ट की अनदेखी हो रही है बता दे कि डोमेश्वर कुमार दृष्टि दिव्यांग होने के बावजूद ऑफिस का पूरा काम संभालते हैं उनका कहना है कि जब उनके काम में कोई कमी नहीं है तो फिर प्रशासन सरकारी आवास के आवंटन में उनकी अनदेखी क्यों कर रही है वहीं डीसी सोलन के .के .सी चमन ने बताया कि दृष्टि दिव्यांग कर्मचारी को जल्द ही सरकारी आवास का आवंटन किया जाएगा