हिमाचल- प्रदेश में भाजपा सरकार के आने के बाद  शोषित एंव दलितों पर अत्याचार एंव जूर्म बढा :-

हिमाचल प्रदेश में भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद लगातार दलितों का शोषण किया जा रहा है हिमाचल मे पिछले 1 साल से दलितों पर अत्याचार के मामले बढ़ रहे हैं सिरमौर में दलित नेता केदार जिन्दन की हत्या मामले में सरकार ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया और ना ही उनके परिवार वालों से जो वादा किया था वह पूरा नहीं किया शिमला के चौपाल  के नेरवा के रजत मामले और कुल्लू में दलित युवक की पिटाई के मामले को लेकर भी  सरकार ने अभी तक कार्रवाई अमल में नहीं लाई है जिससे साबित होता है कि भाजपा सरकार दलितों के विरोधी है दलित शोषण मुक्ति मंच ने प्रदेश सरकार के खिलाफ सभी मुख्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया दलित शोषण मुक्त मंच के अध्यक्ष जगत राम ने कहा है कि प्रदेश में दलितो पर अत्याचार और शोषण बढ़ता ही जा रहा है पिछले दिनों सोलन के कसौली मैं एक महिला और उसकी बेटी के साथ कुछ लोगों द्वारा छेड़खानी और मारपीट करने का मामला सामने आया जिसे प्रशासन ने दबाने की कोशिश की पीड़ित महिला को अभी तक न्याय नहीं मिला प्रदेश में सत्तासीन सरकार दलितों पर हो रहे अत्याचारों रोकने में फेल हो रही है जिस से पता चलता है  की सरकार दलित के विरोध में है दलित नेता ने सरकार पर आरोप लगाया है कि दलित और असहाय लोगों पर हो रहे अत्याचारों पर रोक लगा दी जाए और उन्होंने कहा है अगर सरकार दलितों पर हो रहे अत्याचार उच्च वर्ग के लोगों पर कार्रवाई नहीं की तो आने वाले टाइम में सरकार को दूरगामी परिणाम भुगतने हो गए प्रदेश में हो रहे दलितों पर अत्याचार को रोकने की मांग की है साथ में चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर सरकार जल्दी ही कार्रवाई नही करती है तो आने वाले टाइम में दलित समाज के लोग उग्र आंदोलन करने को मजबूर हो जाएंगे । ब्यूरो रिपोर्ट हिमाचल- प्रदेश