प्रदेश की ‘भामाशाह योजना’ केंद्र की ‘आयुष्मान भारत योजना’ से होगी कनेक्ट*

 

जयपुर। केंद्र की आयुष्मान भारत योजना व राजस्थान सरकार की भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को लेकर जारी विवाद अब खत्म होता नजर आ रहा है। राज्य सरकार की मंशा है कि दोनों योजनाओं को कनेक्ट करके अधिक से अधिक लोगों को स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे में लाया जाए। इसके लिए पायलट प्रोजेक्ट के तहत टोंक जिले में स्टडी कराई जा रही है।

एसएमएस मेडिकल कॉलेज में एक कार्यक्रम में शिरकत करने आए मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों आयुष्मान भारत योजना के सीईओ राजस्थान दौरे पर आए थे। इस दौरान उनके साथ तमाम बिंदुओं पर चर्चा की गई। साथ ही यह तय किया गया कि दोनों योजनाओं को इंटर कनेक्ट करने से लाभार्थियों की संख्या कितनी बढ़ेगी इसके बारे में अध्ययन कराया जाएगा। इसके लिए टोंक जिले का चयन किया गया है। गुप्ता ने बताया कि दोनों योजनाओं को कनेक्ट करने से राजस्थान में लाभार्थी परिवारों की संख्या सवा करोड़ के आसपास हो जाएगी। यानी कि राजस्थान के अधिकांश परिवार स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे में आ जाएंगे।

इस दौरान मुख्य सचिव गुप्ता ने यह भी स्पष्ट किया कि भामाशाह कार्ड के नवीनीकरण में आचार संहिता कहीं पर भी आड़े नहीं आती, क्योंकि इंश्योरेंस कंपनी से एक साथ 2 साल के लिए एमओयू किया गया है। अगर इस तरह की कोई दिक्कत फील्ड मेंं आ रही है तो उसे दिखवाया जाएगा।

समोसे खाने के चक्कर में डेढ़ लाख रुपए गंवाए

रामगंजमंडी।  यहां रोडवेज बस स्टेण्ड पर पुलिस चौकी से करीब बीस कदम दूर एक मुनीम  का  रुपयों से भरा बेग उस समय चुरा लिया गया जब समोसा खारहा था।  कल करीब बारह बजे हुई इस घटना का मुनीम ने पुलिस में प्रकरण दर्ज करा दिया ।

मुनीम जोधराज गुर्जर ने बताया कि पत्थर व्यापारी सतीश जैन ने उसे डेढ़ लाख की राशि का चेक दिया था। उसने एचडी एफसी बैंक से उसने दिन में 11 बजे राशि निकाली। रकम को लेकर वह बाइक से जब जाने लगा तो रास्ते में बस स्टेण्ड पर एक दुकान पर समोसा खाने के लिए रुक गया। उसने हाथ में डेढ़ लाख की राशि से भरा बेग लिया हुआ था। उसने दुकान पर टेबल पर बेग रखा और समोसा खाने लगा। इसी बीच उसका बेग कोई उठाकर ले गया। मुनीम ने बताया कि सारा खेल चंद सैकण्ड में हो गया। समोसा खा कर पानी पीने के बाद वह पीछे घूमा तो टेबल पर रखा बेग नहीं था।

एक प्रत्यक्षदर्शी दुकान के एक कर्मचारी के अनुसार इस वारदात को दो बच्चों ने अंजाम दिया। मुनीम इस कर्मचारी को साथ लेकर बच्चों को तलाशने निकला लेकिन उनका कहीं पता नहीं चला। पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस कर्मियों ने बच्चों को तलाश करने का प्रयास किया। सीसीटीवी कैमरे खंगाले लेकिन कोई सफलता नहीं मिली।

समोसे खाने के चक्कर में डेढ़ लाख रुपए गंवा देने की चर्चा दिनभर कस्बे में होती रही। हर कोई यह जानकर दंग रह गया कि आखिर चंद सैकण्ड में ही रुपयों से भरा बैग कैसे पार हो गया। आश्चर्य की बात तो यह है कि समोसे की दुकान पर लोगों की काफी भीड़ होने के बावजूद लोगों की निगाह उस चोर पर नहीं पड़ सकी। हालांकि पुलिस पूरे मामले की गहनता से जांच कर रही है।

लोकसभा आम चुनाव की तैयारियों की दी जानकारी 

झालावाड़ । लोकसभा आम चुनाव 2019 को पूर्ण निष्पक्षता एवं शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) सिद्धार्थ सिहाग की अध्यक्षता में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचन आयोग द्वारा 2 अप्रेल को चुनाव के लिए अधिसूचना जारी की जाएगी। निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा क्षेत्र झालावाड़-बारां के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 9 अप्रेल निर्धारित की गई है। वहीं नामांकन पत्रों की संविक्षा 10 अप्रेल को की जाएगी। नामांकन पत्र वापिस लेने की अंतिम तिथि 12 अप्रेल होगी। उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग ने लोकसभा क्षेत्र झालावाड़-बारां के लिए 29 अप्रेल, 2019 को मतदान की तिथि निर्धारित की है। वहीं मतगणना 23 मई को राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज में होगी।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि लोकसभा आम चुनाव की घोषणा होने के साथ ही जिले में धारा 144 लागू हो गई है इस दौरान आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन न हो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि जिले के अंतिम मतदाता को जागरूक करने के लिए जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा व्यापक प्रचार प्रसार किया जाएगा। उन्होंने लोकसभा आम चुनाव में अधिक से अधिक मतदाताओं को जागरूक करने के लिए आगामी दिनों में स्वीप कार्यक्रम के तहत आयोजित की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी दी।

इस दौरान उप जिला निर्वाचन अधिकारी रामेश्वर लाल मीणा, जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजेन्द्र प्रसाद चतुर्वेदी, सहायक निदेशक सूचना एवं जनसम्पर्क हेमन्त सिंह स्वीप सहप्रभारी एवं सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक गौरीशंकर मीना सहित प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

आयुक्त ने छावनी, रायपुरा, डीसीएम, विज्ञान नगर के सेक्टर कार्यालयों व

कचरा पाॅईन्टो का निरीक्षण किया

कोटा। नगर निगम आयुक्त नरेन्द्र गुप्ता ने पदभार सम्भालने के साथ ही शहर की सफाई व्यवस्था को और अधिक सुचारू व प्रभावी बनाने के प्रयास तेज कर दिये है। उन्होने शहर के विभिन्न सेक्टर कार्यालयों व कचरा पाॅईन्टस् का दौरा कर निरीक्षण किया। सफाई कर्मियों की बाॅयोमेट्रिक उपस्थिति व हाजरी रजिस्टर चेक किये। मुख्य मार्गों व विभिन्न बाजारों के सफाई कार्य का अवलोकन किया और मौके पर ही स्वास्थ्य अधिकारी बब्बू गुप्ता को निर्देश दिये।

आयुक्त सर्वप्रथम छावनी के सेक्टर कार्यालय पहुंचे और सफाई कर्मियों की उपस्थिति की जांच की। इसके बाद उन्होने छावनी क्षेत्र मे सफाई कार्याें का मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया। आयुक्त ने सफाई कर्मियों की समय पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के संबंधित स्वास्थ्य निरीक्षक को निर्देश दिये। इसके बाद उन्होने थेकडा स्थित कचरा ट्रांसफर स्टेशन पहुंचकर टिपर, जे.सी.बी. व डम्पर के जरिये कचरा आने और उसके ट्रांसफर होकर टेªंचिंग ग्राउण्ड के लिए रवाना होने की कार्यवाही का अवलोकन किया। तदोपरांत आयुक्त ने रायपुरा तथा डीसीएम चैराहा स्थित सेक्टर कार्यालयों व विज्ञान नगर के सेक्टर कार्यालय का निरीक्षण किया, सफाई कर्मियों की हाजरी की जांच की और सफाई कर्मियों की समयबद्ध उपस्थिति दर्ज करने, उनके रोजाना के सफाई कार्य क्षेत्र को सुनिश्चित करने और मौके पर उनके सफाई कार्य का निरीक्षण करने के संबंधित स्वास्थ्य निरीक्षकों को निर्देश दिये।

निरीक्षण के दौरान उन्होने बोरखेडा क्षेत्र, डीसीएम व विज्ञान नगर झालावाड रोड क्षेत्र मे बने कचरा पाॅईन्टो की स्थिति व व्यवस्था का अवलोकन किया। उन्होने स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि प्रतिदिन कचरा पाॅईन्टो से समय पर कचरा उठने की कार्यवाही की पुख्ता माॅनीटरिंग की जाये। कचरा उठने के बाद पाॅईन्टस् की सफाई कर उन्हे स्वच्छ बनाया जाये।

राजनैतिक दलों को दी चुनाव आयोग के नवीन दिशा निर्देशों की जानकारी

राजनैतिक दल चुनाव आचार संहिता की पालना में सहयोगी बनें- जिला निर्वाचन अधिकारी

कोटा । जिला निर्वाचन अधिकारी मुक्तानन्द अग्रवाल ने कहा कि लोकसभा चुनाव की आदर्श आचार सहिंता की पालना में सभी राजनैतिक दल सहयोगी बनकर कार्य करें। चुनाव आयोग द्वारा आईटी बेस्ट सेवाओं के द्वारा निरन्तर निगरानी रखने के साथ विभिन्न अनुमतियों के लिए कार्य को सरलीकरण कर दिया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी कलक्ट्रेट सभागार में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आयोजित राजनैतिक दलों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा चुनाव की घोषणा होते ही जिले में आदर्श आचार सहिता लागू हो गई है। इसके तहत प्रतिबन्धित कार्यों की पालना के लिए राजनैतिक दल सहयोग कर रैली, सभा आयोजन एवं गतिविधियों के लिए निर्धारित प्रक्रिया का पालन करते हुए सुविधा मोबाइल एप के माध्यम से अनुमति लेकर कार्य करें। उन्होंने आदर्श आचार संहिता के लिए निर्धारित मापण्डों की जानकारी देकर जिले में लागू धारा 144 का पालन करने, लाउड स्पीकर का उपयोग करने के लिए जारी दिशा निर्देशों की पालना करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिले में एफएसटी, एसएसटी टीमें तैनात कर दी गई हैं इनके द्वारा आचार सहिंता की निगरानी रखी जा रही है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि इस बार सी-विजिल मोबाइल एपं के द्वारा आम नागरिक आचार संहिता के शिकायत ऑन लाईन कर सकते हैं इसको 100 मिनिट के अन्दर आवश्यक रूप से निस्तारित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि उममीदवार को सोशल मीडिया एकाउट की जानकारी भी देनी होगी उस पर निगरानी रखी जाकर चुनावी व्यय खर्चे में जोडा जायेगा। उम्मीदवार को आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी आम मतदाताओं के लिए तीन बार प्रिन्ट एवं तीनबार इलैक्ट्रेनिक मीडिया में देनी होगी। उन्होंने सभी प्रतिनिधियों को आव्हान किया कि वे चुनावी सामग्री ईको फ्रेंडली उपयोग में लाये तथा पॉलीथीन का कम से कम उपयोग करें।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि संसदीय क्षेत्र में 19 लाख 31 हजार 460 मतदाता हैं सभी मतदाताओं के शत प्रतिशत फोटो पहचान पत्र बनाये जा चुके हैं। 2051 मतदान केन्द्र हैं। उन्होंने बतया कि चुनाव आयोग द्वारा इस बार मतदाता पहचान पर्ची के साथ 11 वैकल्पिक दस्तावेजों को मतदान के समय पहचान के लिए आवश्यक किया है। अभ्यर्थी को चुनावी व्यय की सीमा वर्तमान में 70 लाख रू निर्धारित की गई है। उन्होंने बताया कि ईवीएम एवं वीवीपैट के लिए कार्मिकों को दक्षता के साथ प्रशिक्षित किया जा रहा है ताकि किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो।

उपजिला निर्वाचन अधिकारी एडीएम वासुदेव मालावत ने चुनाव आयोग के नवीन दिशा निर्देशों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर चुनाव नियत्रंण कक्ष प्रभारी दीप्ती मीणा, कॉग्रेस जिला अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, अनिल जैन, राष्ट्रीय कॉग्रेस के जिला अध्यक्ष, बसपा एवं भाकपा के प्रतिनिधी उपस्थित रहे।

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जिला मजिस्ट्रेट ने लगाई जिले में धारा 144

कोटा । लोकसभा आम चुनाव शांतिपूर्ण, स्वतन्त्र, निष्पक्ष एवं सुव्यवस्थित रूप से सम्पन्न कराने, जिले के सभी क्षेत्रों में मतदाताओं को भयमुक्त होकर अपने मताधिकार का उपयोग करने तथा अवांछित, बाधक तत्वों की गतिविधियों को नियंत्रित करने हेतु जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट मुक्तानन्द अग्रवाल ने जिले में धारा 144 के तहत 10 मई 2019 की मध्यरात्रि तक निषेधाज्ञा लागू की है।

जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी आदेशानुसार कोई भी नागरिक किसी प्रकार का विस्फोटक पदार्थ, रासायनिक पदार्थ, आग्नेय अस्त्र-शस्त्र जैसे रिवाल्वर, बन्दूक, गन, धारदार हथियार जैसे गंढासा, तलवार, चाकू, छुरी, बरछी, कटार आदि ना लेकर चलेगा ना ही सार्वजनिक स्थानों पर प्रर्दशन करेगा। यह आदेश चुनाव ड्युटी में तैनात कार्मिकों पर लागू नहीं होगा, धर्म के आधार पर सिख समुदाय को कृपाण रखने की छूट होगी। अपने अनुज्ञापत्रों को थानों में जमा कराने लाने वाले लोगों पर भी लागू नहीं होगा।

आदेश के अनुसार कोई भी व्यक्ति शहरी सीमा में अतिरिक्त कलक्टर शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सम्बन्धित उपजिला मजिस्ट्रेट की अनुमति के बिना कोई भी जुलूस, धरना, सभा, भाषण आदि का आयोजन नहीं करेगा और ना ही ध्वनि प्रसारण कर सकेगा। ध्वनि प्रसारण यंत्र के उपयोग की अनुमति सम्बन्धित मजिस्ट्रेट द्वारा प्रातः 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक दी जा सकेगी। जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी आदेशानुसार सामप्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुचाने वाले नारे नहीं लगायेगा तथा इस प्रकार के भाषण भी नहीं करेगा और ना ही इस प्रकार की सामग्री यथा पोस्टर, पम्पलेट मुद्रित करवायेगा। सार्वजनिक सम्पतियों पर अवैध पोस्टर, बैनर, प्रचार सामग्री लगाना भी प्रतिबन्धित होगा।

जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि इस दौरान कोई भी व्यक्ति, संस्था सोशल मीडिया यथा फेसबुक, वाट्सएप, ट्वीटर, इन्सटाग्राम, यू-ट्युब आदि के माध्यम से सामाजिक उन्माद फैलाने वाले पोस्ट नहीं डालेगा। कोई भी व्यक्ति चुनाव प्रचार प्रसार हेतु वाहनों से यातायात बाधित नहीं करेगा और बिना मजिस्ट्रेट की अनुति के वाहनों पर लाउड स्पीकर का उपयोग नहीं कर सकेगा। किसी भी मन्दिर, मस्जिद, गुरूद्वारे का उपयोग निर्वाचन प्रचार मंच के रूप में प्रयोग नहीं किया जा सकेगा। आदेश के अनुसार कोई भी व्यक्ति मतदान दिवस पर मतदान केन्द्र के 200 मीटर की परिधि में चुनाव कार्य में तैनात कार्मिकों के अलावा सेलफोन, मोबाइल फोन का उपयोग नहीं कर सकेगा।