बारां। विधानसभा आम चुनाव-2018 के तहत 5 दिसम्बर को सायं 5 बजे से प्रचार का शोर थम गया है। साथ ही इलेक्ट्रानिक मीडिया पर राजनीतिक और चुनाव प्रचार संबंधी विज्ञापन का प्रसारण रोक लग गई है। वहीं 6 व 7 दिसम्बर को प्रिन्ट मीडिया में प्रकाशित होने वाले ऐसे विज्ञापनों का पूर्व में अधिप्रमाणन कराया जाना अनिवार्य रहेगा।

धारा 144 प्रभावी

जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्टेªट डॉ. एस.पी. सिंह ने बुधवार शाम 5 बजे से दण्ड प्रक्रिया की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा के आदेश दिए है जो 8 दिसम्बर को सायं 5 बजे तक प्रभावी रहेगी। निषेधाज्ञा की अवधि में गैर कानूनी सभाओं व सार्वजनिक बैठकों पर प्रतिबंध रहेगा। प्रतिबंधित क्षेत्र में 5 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने, आवाजाही करने की अनुमति नहीं रहेगी तथापि घर-घर जाकर प्रचार अभियान के संबंध में 48 घंटे के दौरान द्वार से द्वार के भ्रमण को प्रतिबंधित नहीं किया जावेगा। इस अवधि में राजनीतिक कार्यकर्ता, पार्टी कार्यकर्ता, जुलूस कार्यकर्ता, अभियान कार्यकर्ता यदि निर्वाचन क्षेत्र के बाहर से लाए गए हैं और उस निर्वाचन क्षेत्र के मतदाता नहीं हैं तो वह निर्वाचन क्षेत्र में उपस्थित नहीं रह सकेंगे।

विज्ञापनों का अधिप्रमाणन अनिवार्य

भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विधानसभा आमचुनाव के तहत राजनीतिक दल के प्रत्याशियों द्वारा 6 व 7 दिसम्बर 2018 को समाचार पत्रों में प्रकाशित किए जाने वाले विज्ञापनों का अधिप्रमाणन कराना अनिवार्य व आवश्यक है। उक्त दिवस पर समाचार पत्रों में चुनाव लड़ रहे अभ्यर्थी द्वारा दिए जाने वाले विज्ञापनों का अधिप्रमाणन संसदीय क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी व कलक्टर झालावाड़ द्वारा किया जाएगा। उक्त दिवसों पर विज्ञापनों का अधिप्रमाणन ई-पेपर वाले समाचार पत्रों समेत अन्य समाचार पत्रों के लिए भी अनिवार्य होगा।