कोटा। नगर निगम आयुक्त जुगल किशोर मीना ने शुक्रवार को थेगडा व महावीर नगर प्रथम स्थित निगम के कचरा ट्रांसफर स्टेशनोें का निरीक्षण किया और स्वास्थ्य अधिकारी सतीश मीना को आवश्यक निर्देश प्रदान किये।

आयुक्त मीना ने सर्वप्रथम थेगडा स्थित कचरा ट्रांसफर स्टेशन का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होने पाया कि डोर-टू-डोर के तहत् टिपरों के जरिये लाये जाने वाले कचरे को ट्रांसफर स्टेशन से ट्रेंचिग ग्राउण्ड पहुचाने वाली ट्रेक्टर-ट्रोलियां समय पर नही आ रही है। जिससे कचरा परिवहन की व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित नही हो पा रही है। आयुक्त ने इस अनियमितता के लिए संबंधित संवेदक को नोटिस जारी करने के निर्देश स्वास्थ्य अधिकारी को दिये।

साथ ही उन्होने डोर-टू-डोर कचरा संग्रह करने वाले टिपरों का समय पर कचरा ट्रांसफर करने हेतु स्टेशन पहुंचना सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये। इसके बाद आयुक्त ने महावीर नगर प्रथम मे बनाये गये एक और कचरा ट्रांसफर स्टेशन का अवलोकन किया और स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये कि इस स्टेशन पर भी कचरा ट्रांसफर करने का कार्य शीघ्र प्रारम्भ किया जाये और कचरा एकत्रित करने वाले अधिक से अधिक टिपरों को सीधे यहां लाकर कचरा ट्रांसफर करने के लिए पाबंद किया जाये।

आयुक्त ने महावीर नगर व घटोत्कच्च चैराहा क्षेत्र मे भ्रमण कर सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया और घटोत्कच्च चैराहे के पास एक स्थान पर पडे कचरे को तत्काल उठाये जाने के स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये।

आयुक्त द्वारा श्रीनाथ पुरम् व अन्य नजदीकी इलाको से एकत्रित कचरे को समुचित रूप से ट्रेंचिग ग्राउण्ड तक पहुंचाने की पुख्ता व्यवस्था बनाने के लिए श्रीनाथ पुरम् फाॅयर स्टेशन के पास खाली स्थान पर एक और कचरा ट्रांसफर स्टेशन बनाये जाने की स्वीकृति हेतु नगर विकास न्यास को पत्र लिखे जाने के निर्देश भी स्वास्थ्य अधिकारी सतीश मीना को प्रदान किये गये।

कम्पोस्ड खाद बनाने की कार्यवाही को गति देने के निर्देश

आयुक्त ने चम्बल गार्डन का भी शुक्रवार को निरीक्षण किया और गार्डन अधिक्षक को निर्देश दिये कि कम्पोस्ड खाद बनाने की कार्यवाही को और अधिक कर्मचारी लगाकर गति प्रदान की जाये। इसके लिए पेडो से गिरे सूखे पत्तो और अन्य उपयोगी वनस्पति के अधिक से अधिक पेड खाद निर्माण के लिए तैयार किये जायें।