झालावाड़ । संभागीय आयुक्त के.सी. वर्मा तथा कोटा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक आनन्द श्रीवास्तव ने 7 दिसम्बर को आयोजित होने वाले मतदान को सुचारू रूप से सम्पन्न कराने के लिए सोमवार को मिनी सचिवालय के सभागार में समीक्षात्मक बैठक ली।

बैठक में मतदान प्रक्रिया से जुडे़ सभी प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए संभागीय आयुक्त ने कहा कि 7 दिसम्बर को होने वाले विधानसभा चुनावों को हमें भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित मापदण्डों के आधार पर पूर्ण निष्पक्षता, स्वतंत्रता एवं शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाने हैं। चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की त्रुटि चुनाव को बाधित कर सकती है। किसी भी प्रकार का किसी भी व्यक्ति से संबंध न रखते हुए मतदान प्रक्रिया से जुड़ा प्रत्येक कार्मिक भारत निर्वाचन आयोग के कार्मिक के रूप में कार्य करें।

कोटा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष, स्वतंत्र एवं भयमुक्त वातावरण में सम्पन्न कराने के लिए करीब 6 हजार 500 मतदानकर्मी एवं उनकी सुरक्षा के लिए करीब 3 हजार 500 पुलिस एवं पैरामिलट्री फोसेर्स की व्यवस्था आयोग के निर्देशानुसार सुनिश्चित की गई है। उन्होंने कहा कि एरिया तथा सैक्टर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस सुपरवाईजर एवं मोबाईल पार्टी संबंधित आरओ के साथ पूर्ण समन्वय के साथ उनसे संबंधित सभी मतदान केन्द्रों का दौरा कर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर लें।

उन्होंने कहा कि आपातकालीन स्थिति में बाधारहित संचार हो, सीधी बात जिला निर्वाचन अधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक तक पहुंचे।

जब तक आपात की स्थिति या समस्या का समाधान ना हो जाए तब उस मतदान केन्द्र या उस क्षेत्र के मतदान दल एवं पुलिसकर्मी किसी भी स्थिति में उस स्थान से न हटें। सभी प्रकोष्ठ प्रभारी एवं एरिया व सेक्टर मजिस्टेªट तथा पुलिस अधिकारी मतदान प्रक्रिया से जुड़े हर व्यक्ति से निरंतर सम्पर्क में रहें। मतदान से जुड़ा अगर कोई कार्मिक बीमार हो गया है या लगता है कि मतदान प्रक्रिया उसके कार्य करने से बाधित होगी तो उसे तुरंत बदल दें। उन्होंने कहा कि मतदान दल 6 दिसम्बर को अपने निर्धारित साधन, निर्धारित रूट पर चलते हुए अपने निर्धारित मतदान केन्द्र पर पहुंचे।

इसी प्रकार उस मतदान दल की वापसी 7 दिसम्बर को मतदान समाप्ति के पश्चात् सुनिश्चित हो।

उन्होंने सभी सैक्टर मजिस्ट्रेट एवं पुलिस मोबाइल पार्टी के सदस्यों को निर्देशित कि वे अपने संबंधित मतदान केन्द्रों पर पहुंचकर ये सुनिश्चित करें कि वहां चुनाव कराने वाले सही मतदानकर्मी पहुंच गए हैं। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से कहा कि वे भयग्रस्त (वलनरेबल पोकेट्स) क्षेत्रों का दौरा कर क्षेत्रों के मतदाताओं में सुरक्षा का भरोसा जगाते हुए शत्-प्रतिशत मतदान सुनिश्चित करें। उन्होंने मतदान प्रक्रिया से जुडे़ सभी कार्मिकों को चेताते हुए कहा कि कोई मतदानकर्मी किसी भी प्रत्याशी एवं पार्टी के संबंध में राजनैतिक टीका-टिप्पणी न करे ताकि विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष, स्वतंत्र और शांतिपूर्ण सम्पन्न करवाया जा सके।

जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव को सुचारू रूप से सम्पन्न कराने के लिए 4 दिसम्बर मंगलवार को एरिया व सैक्टर मजिस्ट्रेट तथा सुरक्षा की दृष्टि से लगाए गए पुलिस अधिकारी संबंधित आरओ के साथ बैठक कर मतदान केन्द्रों का सूक्ष्मता के साथ निरीक्षण कर आवश्यक व्यवस्थाओं का जायजा लें। इस दौरान पुलिस अधीक्षक आनन्द शर्मा ने विधानसभा चुनाव में पुलिस जाप्ते की पुख्ता व्यवस्था के संबंध में बताया।

जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामजीवन मीणा ने स्वीप कार्यक्रम एवं भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दिव्यांग मतदाताओं को मतदान प्रक्रिया में सुविधा प्रदान करने के लिए जिले में की गई सुगम मतदान की व्यवस्था से अवगत कराया। बैठक में समस्त रिटर्निंग अधिकारियों, पुलिस उपाधीक्षकों आदि चुनाव से जुड़े अधिकारियों ने अपने-अपने क्षेत्र की निर्वाचन संबंधी जानकारी से अवगत कराया।