बारां । लोकपाल महानरेगा नरेन्द्र कुमार सोमानी द्वारा महानरेगा योजना के सफल क्रियान्वयन के सम्बन्ध में ग्राम पंचायत कोयला व ग्राम पंचायत बड़ां का आकस्मिक निरीक्षण किया गया।

पंचायत समिति बारां की ग्राम पंचायत कोयला के निरीक्षण के दौरान ग्राम पंचायत कार्यालय में राजकीय कार्याें के सम्पादन में बरती जा रही अनियमितता के सम्बन्ध में पूर्व ग्राम सेवक चौथमल मीणा द्वारा स्वयं का स्थानान्तरण ग्राम पंचायत सुन्दलक हो जाने के पश्चात् भी उनके स्थान पर नियुक्त किये गये ग्राम सेवक लोकेन्द्र सिंह को माह जुलाई 2018 के बाद से आदिनांक तक चार्ज व ग्राम पंचायत कोयला के समस्त दस्तावेजों को सुपुर्द न करना व उपस्थिति रजिस्टर में 20 जुलाई 2018 से 30 अक्टूबर 2018 तक फर्जी हस्ताक्षर करने का मामला सामने आया तथा इस सम्बन्ध में उच्च अधिकारियों को जानकारी होने के बावज़ूद भी किसी भी तरह की कार्यवाही न करने को लेकर लोकपाल, महात्मा गांधी नरेगा द्वारा गहरी नाराज़गी ज़ाहिर की गई तथा मौके पर ही इस सम्बन्ध में विकास अधिकारी, पंचायत समिति बारां तथा ग्राम सेवक चौथमल मीणा को स्पष्टीकरण हेतु निर्देश दिये गये।

इसके पश्चात् लोकपाल मनरेगा द्वारा ग्राम पंचायत बड़ां, पंचायत समिति बारां का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान ग्राम सेवक संजू विजय मौके पर उपस्थित मिली। ग्राम सेवक से ग्राम पंचायत बड़ां का रिकॉर्ड प्रस्तुत करने हेतु कहा गया परन्तु उक्त ग्राम सेवक द्वारा महात्मा गांधी नरेगा का रिकॉर्ड किसी भी प्रकार का रिकॉर्ड लोकपाल, महात्मा गांधी नरेगा के समक्ष प्रस्तुत करने में असमर्थता जताई गयी। इसी दौरान ग्राम पंचायत की केश बुक भी ग्राम सेवक द्वारा कार्यालय में नहीं होना बताया गया। इसके साथ ही ग्रामीण विकास की योजनान्तर्गत किये जा रहे कार्यो में भी लोकपाल, मनरेगा द्वारा जांच के उपरान्त कमियां पाई गयी जिनके सम्बन्ध में ग्राम सेवक संजू विजय को स्पष्टीकरण देने हेतु निर्देश दिये गये।