चाहे मनुश्य जीव हो या पषु जीवए सभी के जीवन के बारे में गहराई से सोचेः षर्मा

बारां। अहिंसा मानव जीवन का परम धर्म है। चाहे वह मनुश्य हो अथवा छोटे से जीव या जंगल में रहने वाले मूक और निरीह वन्य जीव हमें सभी के जीवन के बारे में गहराई से सोचना चाहिए यही मानव जीवन का मूल उदेष्यय है। यह विचार आयुर्वेद उपनिदेषक डाण् धर्मेंद्र षर्मा ने भारती सांस्कृतिक निधी वराह नयुरी बारां अध्याय द्वारा विष्व वन्य जीवन संरक्षण दिवस के अवसर पर आयोजित विचार गोश्ठी में मुख्य अतिथि पद से व्यक्त किए।

विषिश्ट अतिथि युवा अधिवक्ता गोविंद सिंह ने कहा कि जंगलों में बसने वाले प्राणी हमारे समाज के अभिन्न अंग हैए उनकी रक्षा और संरक्षा का दायित्व हमारे उपर है। अध्यक्षता करते हुए डाण् मनोज सिंगोरिया ने कहा कि जीवों के प्रति दया हमारी प्राचीन भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग हैए उनके प्रति षास्त्रीय कथन षाष्वत सत्य है। अतः हमें उनकी आत्मा में बसे परमात्मा के अंष को स्वीकार कर उनको षिकार से बचाना चाहिए। विष्व वन्य जीव संरक्षण दिवस के अवसर पर आयोजित वन्य जीव संरक्षण विचार गोश्ठी के षुभारंभ में सभी सदस्यों का स्वागत किया गया। इसके बाद कार्यवाहक जन संपर्क अधिकारी प्रद्युम्न षर्मा ने विष्व वन्य जीव संरक्षण की महत्तााए षुरूआतए जीवों के संरक्षण के प्रति किए जाने वाले प्रयासों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

फरियादी ने लगाई एसपी से न्याय की गुहार 

– ज्ञापन में झूंठे मामले में फंसाने का लगाया आरोप, घटना के समय भाइ्र नहीं था मौजूद

बारां। एक फरियादी ने स्वयं को व भाई को झूंठा फंसाने का आरोप लगाते हुए एसपी को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में जनता टाकीज के पास हरिजन बस्ती निवासी मुकेष पुत्र रामहेत हरिजन ने बताया कि 2 मार्च को विकास, राजकुमार पुत्र राजेष हरिजन निवासी जनता टाकीज के पास अपनी कार से जनता टाकीज के पास स्थित अपने मकान पर जा रहे थे। रास्ते में बबलू मीणा पहलवान मीणा निवासी छत्रगंज दंडपुरा तहसील किषनगंज ने जनता टाकीज के पास हरिजन बस्ती रोड पर बीच रोड पर अपनी मोटरसाइकिल खडी कर रखी थी। विकास व राजकुमार की कार निकलने का रास्ता नहीं होने के कारण विकास ने उक्त बबलू पहवान से बाइक एक साइड करने को कहा तो बबलू मीणा ने फरियादी के साथ गाली गलौच कर मारपीट की। आरोपियों की ओर से जो कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है वो झूंठी है। फरियादियों की ओर से कोई मारपीट नहीं की गई। जबकि प्रार्थी का भाई उस समय रेलवे स्टेषन पार्किंग पर बैठाा था, जिसका पता दूसरे दिन प्रार्थी के घर पुलिस आई तब घर वालों को बताने पर चला। उक्त लडाई झगडे में प्रार्थी व उसके भाई का कोई लेना देना नहीं है। घटना के दिन पुलिस कर्मी दोबारा आए और प्रार्थी की बाइक को ले गए। प्रार्थी मुकेष हरिजन ने एसपी से उक्त मामले की निश्पक्ष जांच करवाए जाने व उसके भाई का उक्त लडाई में कोई हाथ नहीं होने, प्रार्थी की बाइक छोडने की मांग की। उधर उक्त घटनाक्रम को लेकर हिंदू जागरण मंच के राश्ट्रीय अध्यक्ष महेष खुराना ने कहा कि फरियादी बेकसूर है। मामले की निश्पक्ष जांच की जाए और आरोपियों पर कडी कार्रवाई की जाए।

ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती के 807वें सालाना उर्स की परम्परागत रूप से शुरूआत

अजमेर। अजमेर में ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती के 807वें सालाना उर्स की रविवार को परम्परागत रूप से शुरूआत हो गई। दरगाह शरीफ स्थित 85 फीट ऊंचे बुलंद दरवाजे पर भीलवाड़ा के गौरी परिवार के सदस्य फखरुद्दीन गौरी द्वारा उर्स का झंड़ा चढ़ा दिया गया।

अमन, शांति, पैगाम एवं भाईचारे का संदेश देने वाले गरीब नवाज के सालाना उर्स के झंडे की रस्म का सिलसिला लंगरखाना गली स्थित दरगाह कमेटी के गरीब नवाज गेस्ट हाउस से उर्स की नमाज के बाद जुलूस के रूप में शुरू हुआ। इस दौरान दरगाह बाजार के पूरे रास्ते आशिकाना-ए-ख्वाजा पुरुष, महिला, बच्चे झंडे की एक जलख पाने के लिए बेताब नजर आए।

झंडा चढ़ाने के दौरान दरगाह के पिछवाड़े बड़े पीर साहब की पहाड़ी से झंडे को 21 तोपों की सलामी दी गई जो इस बात का जयघोष रहा कि ख्वाजा साहब का उर्स प्रारंभ हो गया है। इसी के साथ मुस्लिम भाईयों ने एक दूसरे को गले मिलकर उर्स की मुबारकबाद दी।

झंडे की रस्म के अवसर पर गौरी परिवार के दो सौ से ज्यादा रिश्तेदारों के साथ दरगाह कमेटी, अंजुमन सैयद जादगान, अंजुमन शेखजादगान के नुमाइंदों, खादिमों के अलावा जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे।

झंडे की रस्म अदायगी के मौके पर दरगाह परिसर पूरी तरह जायरीन एवं स्थानीय मुस्लिम बिरादरी से भरा रहा। प्रशासनिक प्रतिबंधों के बावजूद झंडे के जुलूस पर पैसे लुटाने तथा झंडा को चूमने की होड़ बनी रही।

गौरतलब है कि रजब माह का चांद दिखने के साथ ही सात मार्च से गरीब नवाज का सालाना उर्स विधिवत शुरू हो जाएगा। यदि सात मार्च को चांद नहीं दिखाई देता है तो फिर आठ तारीख से धार्मिक रस्में शुरू हो जाएगी और खिदमत का समय भी बदल जाएगा।

सत्रह मार्च को बड़े कुल के साथ उर्स का विधिवत समापन होगा। इससे पहले अनेक वीवीआईपी चादरें गरीब नवाज की बारगाह में पेश होगी। हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली से अपनी चादर सौंप दी है जिसे छह मार्च को गरीब नवाज की बारगाह में पेश कर प्रधानमंत्री की ओर से मुल्क में अमन चैन, खुशहाली, शांति एवं भाईचारे की दुआ की जाएगी।

दंपती ने बाईं मुख्य नहर में कूद कर आत्महत्या की

कोटा थर्मल के पास काली बस्ती निवासी एक दंपती ने बाईं मुख्य नहर में कूद कर आत्महत्या कर ली जैसे इन दोनों दम्पत्तियों को बचाने का वहां से गुजर रहे लोगों ने भरपूर प्रयास किया मगर ज्यादा देर पानी में रहने से दोनों को नहीं बचाया जा सका  पुलिस ने बताया कि मुकेश कुमार पुत्र मथुरालाल हरिजन उम्र पचास साल व सुशीला बाई पत्नी मुकेश कुमार हरिजन उम्र चालीस साल दोनों झगडते हुए नहर के सहारे सहारे जा रहे थे अचानक औरत ने नहर में छलांग लगा दी उसी के पीछे उसका पति भी उसे बचाने के लिए कूद गया आस पास से गुजर रहे लोगों ने शोर मचाया तो कुछ लोग उन्हें बचाने के लिए नहर में कूद गए उन्होंने उन्हें निकालकर बाहर प्राथमिक उपचार देने की कोशिश की और एक सौ आठ एंबुलेंस को कॉल किया वहां से उन्हें एमबीएस अस्पताल में लेकर आए जहां पर डॉक्टर्स ने चेक करने के बाद दोनों को मृत घोषित कर दिया को दो एक लेडीस एक  जेंट्स उम्र 50 साल लेडीस की उम्र है 45 साल दोनों थर्मल कॉलोनी काली बस्ती के रहने वाले हैं दोनों अंदाजे से वाल्मीकि समाज से लग रहे थे और काली बस्ती की तरफ जा रहे थे सकतपुरा थर्मल चौराया चौराहे पर झगड़ा करते हुए आ रहे थे और अचानक नानता नहर के नाले के ऊपर चाबी का गुच्छा लेडीस ने आदमी को दे दिया उसके घर के आदमी को जिस से लड़ाई झगड़ा करते हुए दोनों साथ और नाले से नहर में छलांग लगा दी छलांग लगाते हैं आदमी चिल्ला या मर गई मर गई मर गई और आदमी मैं पब्लिक को इकट्ठा किया आदमी को एक किया और आगे रोड रोड जाते हुए के बाय रोड ते हुए आदमी भी छलांग लगा दी दोनों काफी दूर तक बीच नहर में देते हुए गए और फिर आगे जाकर दो तीन पुलिया उन्होंने क्रॉस किया फिर आगे जाकर नानता हेड के पास वहां उनको बाहर निकालो बेहोशी की हालत में निकले पब्लिक बहुत थी लेकिन किसी ने उनकी जान नहीं बचाई फिर महादेव गो सेवा समिति समिति के सदस्य गौ सेवक पहलाद सेनी राजू बारवाल दोनों ने निकाला और थाने की गाड़ी में  भिजवा

शिवपुरीधाम में सवा पांच क्विंटल दूध से 525 शिवलिंगों का हुआ महारूद्राभिषेक

 नवनिर्मित मंदिर के शिखर पर अभिजीत मुहूर्त में हुई स्वर्ण कलश स्थापना

कोटा, । थेगड़ा स्थित शिवपुरीधाम में महाशिवरात्रि महोत्सव एवं श्री राणा रामपुरी जी महाराज की पुण्य समृति में आयोजित किये जा रहे धार्मिक कार्यों की श्रृंखला में शिवपुरीधाम में नवनिर्मित मंदिर के शिखर पर स्वर्ण कलश स्थापना की गई। संत सनातनपुरी जी महाराज ने मंत्रोच्चार के साथ विधि विधानपूर्वक अभिजीत मुहूर्त में दोपहर 12 बजकर 12 मिनट पर मंदिर के शिखर पर स्वर्ण कलश की स्थापना की।

सुबह 7.30 बजे महाआरती के साथ धार्मिक कार्यक्रम प्रारंभ हुए। सुबह 9 बजे नवकुण्डीय महारूद्रीय यज्ञ आरंभ हुआ। दोपहर एक बजे महारूद्रीय यज्ञ की पूर्णाहूति हुई। सभी मंदिरों में सभी देवताओं को भोग लगाया। सवा एक बजे 525 शिवलिंगों का महारूद्राभिषेक शुरू हुआ। सवा पांच क्विंटल दूध, 25 किलो दही, शहद, घृत, शक्कर से बड़ी धूमधाम से भगवान का सवा तीन घंटे तक 51 ब्राह्मणों द्वारा रूद्राभिषेक हुआ। सभी भक्तों ने भगवान का दूध की धारा से अभिषेक किया।

संत सनातनपुरी जी महाराज ने बताया कि सोमवार 4 मार्च को महाशिवरात्रि पर्व के उपलक्ष में दर्शन व महाआरती होगी। 5 मार्च को संत विदाई समारोह का आयोजन होगा।