यूरिया की कमी को लेकर कांग्रेस नेताओं का संभागीय आयुक्त कार्यालय पर धरना

पीसीसी सचिव शिवकांत नन्दवाना के नेतृत्व में जुटे कांग्रेस कार्यकर्ता

कोटा। यूरिया की आपूर्ति को लेकर दर दर भटक रहे किसानों को कांग्रेस कार्यकर्ताओें का साथ मिला। पीसीसी सचिव शिवकांत नन्दवाना के नेतृत्व में संभागीय आयुक्त कार्यालय पर सैकड़ों कार्यकर्ता और किसान जुटे। वे यूरिया की आपूर्ति सुनिश्चित करने की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किसानों के साथ मिलकर केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मांग के अनुसार खाद उपलब्ध कराने की पुरजोर आवाज उठाई।

इस दौरान पीसीसी सचिव शिवकांत नन्दवाना ने संबोधित करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की ओर से खाद की पूर्ण आपूर्ति नहीं किए जाने के कारण से किसानों को दर दर भटकने पर मजबूर होना पड़ रहा है। किसान विरोधी भाजपा सरकार को किसानों और गरीबों के द्वारा उखाड़ देने को भाजपा स्वीकार नहीं कर पा रही है। केन्द्र सरकार चुनावों में हार का बदला किसानों से लेने पर उतारू है, जिसे कांग्रेस कार्यकर्ता कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। किसानों के द्वारा आने वाले लोकसभा चुनावों में भी भाजपा को उसकी सही जगह बता दी जाएगी।

नन्दवाना ने कहा कि हाड़ौती में चम्बल फर्टिलाइजर्स और श्रीराम फर्टिलाइजर्स के रूप में दो प्लांट होने के बावजूद क्षैत्र का किसान लाठी खाने और लाइनों में लगने को मजबूर हो रहा है। केन्द्र सरकार की हठधर्मिता से किसानों की फसलें बर्बाद होने की कगार पर पहुंच गई हैं। राज्य सरकार की ओर से सम्पूर्ण राजस्थान के लिए 60 हजार मीट्रिक टन यूरिया की मांग की जा रही है, लेकिन किसान विरोधी भाजपा सरकार के द्वारा यूरिया खाद की आपूर्ति नहीं की जा रही है। जिसका खामियाजा लोकसभा चुनाव में भाजपा को भुगतने के लिए तैयार रहना चाहिए।

धरने पर ओबीसी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष चैथमल नागर, ब्लाॅक अध्यक्ष नरेन्द्र नागर, खेड़ा के पूर्व उपसंरपंच राजेन्द्र मेहरा, किसान नेता मदन नागर, परमानन्द सैनी, मनोज गुर्जर, पूर्व पार्षद भूपेन्द्र धाकड़, दीपक बंशीवाल, रजत शुक्ला, धर्मराज गुर्जर, कृष्णा सिंगोर, अर्जुन, हाफिज, अमित पारेता, मयंक विजय, दीपक वर्मा, नितेश महावर, दीपक सेन समेत कईं लोग मौजूद रहे।