बारां । कसबानोनेरा ग्राम पंचायत के गांव मझारी में 6 माह से मनरेगा काम बंद होने के कारण लोग बेरोजगार बैठे हुए है ।

राम सिंह सहरिया,कपूरी,प्रेम बाई, हरलाल,राजो,चंपा,लक्ष्मी,रवीना,कलिया ने बताया कि इस गांव में 40 सहरिया परिवार निवास करते है । यह सभी परिवार बेरोजगार बैठे हुए है । इन्होंने बताया कि 6 माह से मनरेगा बन्द पड़ा हुआ है । वही पुराने जॉबकार्ड भी ग्राम पंचायत जमा कर लिए और अभी तक भी नए नही दिए गए है । इसी तरह कसबानोनेरा सहरिया कालोनी निवासी गुड्डी बाई सहरिया ने बताया कि तीन साल में मात्र 8 दिन का काम मनरेगा मिला है ।

अभी मस्टररोल चल रही है,मगर उसमें मेरा नाम नही आया है । इस कारण बेरोजगार बैठी हुई हूँ । वही रानीपुरा में भी काम बंद पड़ा हुआ है । यहाँ के लोगों ने मनरेगा में रोजगार देने की मांग की है ।गांव के लोगो ने बताया कि रोजगार के अभाव में इस गांव के लोग पलायन को मजबूर है । उन्होंने बताया कि समय समय पर मनरेगा में काम मिल जाये तो पलायन नही करना पड़ेगा । इस तरह गन्नाखेड़ी में 50 परिवार निवास करते है । इस गांव के लोगो को भी अभी तक मनरेगा में काम नही मिला है । इन्होंने बताया कि कई बार ग्राम पंचायत में आवेदन किये जा चुके है ।

उसके बाद भी काम नही दिया जा रहा है । इस सम्बंध में मनरेगा सहायक कार्यक्रम अधिकारी महिपाल सिंह मीणा ने बताया कि गन्नाखेड़ी में 35 लोगो की मस्टररोल जारी कर दी गयी है ।

कसबानोनेरा पंचयात का पखवाड़ा 11 दिसंबर से शुरू होता है । इस कारण मस्टररोल चालू नही की है । 11 दिसंबर से इन गांवों में मनरेगा कार्य चालू कर सभी को रोजगार दे दिया जावेगा । वही ग्राम विकास अधिकारी सियाराम सहरिया ने बताया कि गन्नाखेड़ी की मस्टररोल जारी करवा ली है 11 दिसंबर से इनकी मस्टररोल शुरू कर दी जावेगी । वही जिन गांवों में मनरेगा बन्द है वहाँ के आवेदन लेकर इनकी मस्टररोल जारी करवा दी जावेगी ।