New Delhi, जीएसटी खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) ने फर्जी जीएसटी बिल मामले में 115 फर्जी कंपनियां तैयार करने वाले मास्टरमाइंड मितेश एम शाह समेत अब तक 59 लोगों को गिरफ्तार किया

0
57

New Delhi, जीएसटी खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) ने फर्जी जीएसटी बिल मामले में 115 फर्जी कंपनियां तैयार करने वाले मास्टरमाइंड मितेश एम शाह समेत अब तक 59 लोगों को गिरफ्तार किया है। डीजीजीआई पिछले 10 दिन से फर्जी जीएसटी बिल मामले में देशव्यापी अभियान चला रहा है। गिरफ्तार किए गए लोगों में एक महिला और तीन चार्टर्ड अकाउंटेंट भी शामिल हैं।
सूत्रों के अनुसार, डीजीजीआई शाह को फर्जी जीएसटी बिल मामले का मास्टरमाइंड मान रहा है। उसने 115 फर्जी कंपनियां तैयार कर गुजरात के वडोदरा में फर्जी बिलों के आधार पर 50.24 करोड़ रुपये का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) पास करा लिया। अब तक डीजीजीआई ने 793 मामले दर्ज किए गए हैं और इस फर्जीवाड़े में 2802 कंपनियों के शामिल होने का पता लगाया है। डीजीजीआई ने लुधियाना और हैदराबाद से गिरफ्तार तीन चार्टर्ड अकाउंटेंट के खिलाफ उचित कार्रवाई के लिए इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) को पत्र लिखा है।
डीजीजीआई ने बुधवार को छापे में आठ लोगों को गिरफ्तार किया। इनमें से मेसर्स संजय कारपोरेशन के महेंद्रभाई देसाई, मेसर्स सीतल एंटरप्राइज के राकेश कुमार चावड़ा, मैसर्स लोहिया एंटरप्राइज के मोहम्मद इशाक इस्माइल अंसारी और जिग्नेश कुमार आर पटेल को अहमदाबाद यूनिट ने गिरफ्तार किया। बंगलूरू से पार्थ जैन और कोलकाता से रंजन कुमार साहा को गिरफ्तार किया गया। साथ ही मैसेस ओएमटी ट्रेडर्स के सिवानेसन एस कुमारन को सीजीएसटी चेन्नई ने पकड़ा।
मंगलवार को 32 शहरों भुवनेश्वर, मेरठ, भोपाल, जयपुर, बंगलूरू, दिल्ली, हैदराबाद, सिलीगुड़ी, अहमदाबाद, लखनऊ, कानपुर, नागपुर, चेन्नई, मुंबई, कोलकाता, विशाखापट्टनम, कोयंबटूर, सूरत, वडोदरा, ऊना, राजकोट, कोच्चि, होसूर, गुरुग्राम, पुणे, लुधियाना, रांची, बेलगावी, पटना, गुवाहाटी, रायपुर और जम्मू में तलाशी अभियान चलाया था। इन छापों में सीजीएसटी आयुक्तालय और डीजीजीआई ने 177.50 करोड़ रुपये नकद बरामद किए। फरार कुछ आरोपियों की धरपकड़ की कोशिश की जा रही है।(UNA)