1 जनवरी 2004 के पश्चात नियुक्त नियुक्त कर्मचारियों व अधिकारियों ने हाथ पर काली पट्टी बांधकर न्यू पेंशन स्कीम का विरोध दर्ज करवाया।

राजस्थान शिक्षक महासंघ के जिला मीडिया प्रभारी प्रद्युम्न गौतम ने बताया कि 22 दिसंबर 2003 को ही सरकार के द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी करके कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना को बंद करके न्यू पेंशन योजना लागू की गई जिसमें कर्मचारियों को नियमित पेंशन के स्थान पर उनके वेतन से काटे गए दस प्रतिशत हिस्से को ही ही सरकार सेवानिवृत्ति के पश्चात कर्मचारियों को पेंशन के रूप में देती में देती रहती है और यह पैसा भी विभिन्न विच पेंशन फंडों में लगाने के कारण बाजार के जोखिम के अधीन रहता है

जिससे कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित हो जाता है। राजस्थान शिक्षक महासंघ इसी न्यू पेंशन योजना का विरोध करता रहा है तथा इसी के विरोध स्वरूप न्यू पेंशन लेने वाले सभी अधिकारियों को कर्मचारियों ने पूरे बारां जिले में शनिवार को कार्य के दौरान अपने हाथों पर काली पट्टी बांधी।राजस्थान शिक्षक महासंघ के जिला अध्यक्ष राजेंद्र कुमार जाट वह राजेंद्र कुमार जाट वह जिला मंत्री राकेश जैन ने बताया कि जब तक सरकार उनकी पुरानी पेंशन योजना को बहाल नहीं कर देती तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा तथा आगामी दिनों में ब्लॉक स्तर पर, जिला स्तर पर,संभाग स्तर और अंत में राज्य स्तर पर एक बड़ा आंदोलन चलाया जाएगा

। आगामी लोकसभा चुनाव से पहले सभी राजनीतिक दलों को ज्ञापन देकर उनके घोषणा पत्र में न्यू पेंशन योजना के स्थान पर पुरानी पेंशन योजना को शामिल करने की मांग की जाएगी। संगठन के जिला संगठन मंत्री सुरेश नागर ने बताया कि संपूर्ण बारां जिले में संगठन का नेटवर्क मजबूत कर दिया गया है और आगामी दिनों में इसमें और सदस्यों को शामिल किया जायेगा।