Patna राज्यसभा के उपसभापति पद को लेकर सत्ताधारी एनडीए गठबंधन और विपक्षी दलों के बीच जोर-आजमाइश का दौर जारी है।

0
115

Patna राज्यसभा के उपसभापति पद को लेकर सत्ताधारी एनडीए गठबंधन और विपक्षी दलों के बीच जोर-आजमाइश का दौर जारी है। एनडीए की ओर से हरिवंश नारायण सिंह को उम्मीदवार बनाया गया है। इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को फोन किया है। सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने राज्यसभा उपसभापति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह के लिए बीजू जनता दल का समर्थन मांगा।

नीतीश ने फोन पर नवीन पटनायक से की बात
हरिवंश नारायण सिंह जेडीयू से राज्यसभा सांसद हैं। उन्होंने बुधवार को ही राज्यसभा उपसभापति पद के लिए नामांकन भरा है। नीतीश कुमार ने पटनायक से अनुरोध किया कि बीजू जनता दल हरिवंश नारायण सिंह का समर्थन करे। बीजू जनता दल ने पिछले चुनाव में भी हरिवंश का समर्थन किया था। संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक है। उपसभापति पद का चुनाव सत्र के पहले ही दिन होने की संभावना है।

लालू यादव के डैमेज कंट्रोल का असर, अपने फैसले से पीछे हट सकते हैं रघुवंश प्रसाद, करीबी नेता का दावा

राज्यसभा उपसभापति के लिए NDA की ओर से उम्मीदवार हैं हरिवंश
राज्यसभा उपसभापति पद को लेकर नामांकन प्रक्रिया सात सितंबर से शुरू हुई। राज्यसभा सदस्य के रूप में हरिवंश का कार्यकाल इस साल की शुरुआत में पूरा हो गया था जिसके चलते चुनाव की आवश्यकता पड़ी। उन्होंने 2018 में उपसभापति पद के चुनाव में कांग्रेस के बीके हरिप्रसाद को हराया था। बीजेपी को इस बार 140 सांसदों के समर्थन मिलने की उम्मीद है। इसके साथ ही हरिवंश नारायण सिंह एक बार फिर से चुने जाने के आसार हैं।

बिहार चुनाव 2020 : लालू यादव को अनंत समर्थन, मोकामा विधायक बनाएंगे तेजस्वी को मुख्यमंत्री

विपक्ष ने आरजेडी सांसद मनोज झा को बनाया उम्मीदवार
दूसरी ओर विपक्षी दलों ने आरजेडी नेता मनोज झा को राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए होने वाले चुनाव में अपना संयुक्त उम्मीदवार बनाया है। कांग्रेस ने कहा था कि वह उपसभापति पद को निर्विरोध नहीं जाने देगी और उसने संयुक्त उम्मीदवार खड़ा करने का फैसला किया। मनोज झा कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के नेताओं की मौजूदगी में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। मनोज झा एनडीए उम्मीदवार हरिवंश के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरेंगे। मनोज झा राजनीति में आने से पहले दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षक थे। वह आरजेडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं।