यातायात नियमों का पालन करें, सुरक्षित रहें- जिला कलक्टर

झालावाड़। जिला प्रशासन, पुलिस विभाग एवं जिला परिवहन विभाग के संयुक्त तत्वाधान में ‘‘सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा’’ थीम पर आयोजित 30वां राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह का जिला परिवहन कार्यालय में जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ।

सड़क सुरक्षा सप्ताह समापन समारोह में जिला कलक्टर ने कहा कि सडक सुरक्षा सप्ताह मनाने का उद्धेश्य आमजन को यातायात नियमों की जानकारी देना एवं नियमों की पालना सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि यातायात नियमों का पालन करें, स्वयं भी सुरक्षित रहे और दूसरों की सुरक्षा का भी ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिवर्ष करीब एक लाख 50 हजार व्यक्ति सडक दुर्घटनाओं के कारण अकाल मृत्यु को प्राप्त हो रहे है। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारत में इतनी बडी संख्या में सडक दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्यु दर को गंभीर माना है। उन्होंने अभिभावकों से अपील की कि वे बिना हेलमेट लगाए दुपहिया वाहन न तो स्वयं चलाए और न ही अपने बच्चों को चलाने दें। उन्होंने कहा कि हेलमेट पहनने वाले व्यक्ति की दुर्घटना की स्थिति में जान जाने का जोखिम 70 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

इस मौके पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आशाराम चौधरी ने कहा कि सडक सुरक्षा चेतना अभियान एक सप्ताह तक सीमित नहीं है बल्कि वर्ष पर्यन्त पुलिस एवं जिला परिवहन विभाग द्वारा चलाया जाता है। उन्होंने कहा कि वाहन चलाते समय सीट बेल्ट और हेलमेट का उपयोग व्यक्ति की स्वयं की रक्षा के लिए होता है। उन्होंने कहा कि व्यक्ति शराब पीकर नशे में गाडी नहीं चलाए। नशे में गाडी चलाने से व्यक्ति स्वयं की जान तो जोखिम में डालता ही है साथ-साथ अन्य वाहन चालकों की जान को भी जोखिम में डाल देता है। उन्होंने सभी विद्यार्थियों से अपील की है कि वे अपने परिजनों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करें।

इस अवसर पर जिला परिवहन अधिकारी भगवान करमचन्दानी ने कहा कि सप्ताह के दौरान परिवहन एवं पुलिस विभाग द्वारा दुपहिया हेलमेट वाहन रैली, गुलाब के फूल देकर हेलमेट पहने व यातायात नियमों के पालन करने की जानकारी दी गई। चिकित्सा विभाग के सहयोग से वाहन चालकों का नेत्र परीक्षण किया गया। विद्यालयों में यातायात नियमों के प्रति विद्यार्थियों को जागरूक करने हेतु निबन्ध एवं चित्रकला प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। वहीं सप्ताह के दौरान करीब 250 से अधिक वाहन चालकों के चालान काटे गए। उन्होंने कहा कि आमजन यातायात नियमों का पालन अपने जीवन का अंग बनाएं क्योंकि जीवन अनमोल है।

 

सांगोद में शराबीयों के उत्पात से आमजन परेशान

सांगोद कस्बे में सरकार व आबकारी विभाग के नियमों को ताक में रखकर नगर के सघन आबादी क्षेत्र के मुख्य मार्गों पर शराब की  दुकाने संचालित की जा रही है। इन दुकानों पर दिन व रात को भी खुल्लेआम शराब बेची जा रही है। साथ ही असामाजिक तत्व शराब के नशे में उत्पात मचाना व गाली-गलौच जैसी हरकतों से आमजन खासा परेशान है। इस मामले में कई दफा प्रशासन को नागरिकों ने नियमानुसार इन दुकानों को आबादी क्षेत्र से बाहर लगाने की गुहार की गई किन्तु प्रशासन ने कार्रवाई तक नहीं की। इस मामले को लेकर सोमवार को कांग्रेस सेवादल पदाधिकारीयों व कार्यकर्ताओं ने शराब की दुकानों को हटाने की मांग को लेकर उपखण्ड अधिकारी कमलकुमार मीणा को ज्ञापन दिया।

कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष महेश तिवारी व राकेश कुमावत ने बताया कि नगर के कुन्दनपुर रोड़, बपावर रोड़ व जोलपा रोड पर मुख्य सड़क मार्ग के लगवा आबादी क्षेत्र में शराब की दुकाने(ठेके) लगे हुए है। तथा  देर रात तक खुले रहते है। इन शराब की दुकान पर असामाजिक तत्वों द्वारा शराब के नशे में गाली गलौच की जाती है तथा लड़ाई-झगड़ा करते रहते है। जिससे क्षेत्र में शांति भंग करते रहते है और पैदल आने-जाने वाले लज्जित महसूस करते है। शराबीयों द्वारा महिलाओं को देखकर जानबुझकर अश्लील शब्दों का उपयोग कर गालीयां निकाली जाती है। जोल्पा रोड़ पर स्टेडियम के सामने शराब की दुकान लगी हुई है। तथा बपावर रोड़ पर पेट्रोल पंप के पास लगी हुई है।  और कुन्दनपुर रोड़ पर लगी हुई है शराब की दुकान मुख्य बस स्टेण्ड के पास है जो कि ससघन आबादी क्षेत्र है। आबादी क्षेत्र में शराब की दुकाने होना छोटे बच्चों के मस्तिष्क पर भी गलत प्रभाव डालता है। जबकि आबकारी विभाग के नियमानुसार शराब की दुकाने आबादी क्षेत्र व मुख्य सड़क से काफी दूरी पर लगाने का प्रावधान है। सांगोद कस्बे में आबकारी नियम को ताक में रखकर असंवैधानिक रूप से शराब की दुकाने लगा रखी है। इन दुकानों पर सरकार के निश्चित समय के बाद भी शराब बेची जाती है। उन्होंने ज्ञापन में बताया कि इस मामले में पूर्व में भी मौहल्लेवासीयों व पीडि़त व्यक्तियों द्वारा प्रशासन को कई बार प्रार्थनापत्र के माध्यम से अवगत कराया गया था किन्तु प्रशासन द्वारा आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई। साथ प्रशासन को कांग्रेस सेवादल जिलाउपाध्यक्ष ओमसोनी व नगर अध्यक्ष राकेश कुमावत ने आगाह किया है कि अगर शीघ्र ही इन शराब की दुकानों को नहीं हटाया तो कांग्रेस व सेवादल उग्रआन्दोलन करेगी।

ज्ञापन के दौरान कांग्रेस सेवादल नगर अध्यक्ष राकेश कुमावत, जिला उपाध्यक्ष कांग्रेस सेवादल ओम सोनी, कांग्रेस कमेटी जिला उपाध्यक्ष महेश तिवारी वकील, कांग्रेस जिला महासचिव सत्येन्द्र गुव्ता वकील, बाबूलाल नागर वकील, सत्तार भाई, रमेश अरविन्द, दिनेश गोचर, बिरधीलाल रावल, हेमराज गुर्जर सहित कई कांग्रेस पदाधिकारी मौजूद थे।

 

ट्रेक मेन्टैनर को ड्यूटी के दौरान पैंथर दिखा

कोटा ।  कोटा मण्डल के सीनीयर सेक्शन इन्जीनियर रेल पथ दक्षिण कोटा कार्यालय में कार्यरत ट्रेकमेन्टैनर विनोद शर्मा को रात्रि ड्यूटी के दौरान पैंथर नजर आया है। ट्रेक मेन्टैनर ने बताया कि उसेे रात्रि डयूटी में किलोमीटर 915/18 में ट्रेक पर मशीनों के पार्टस के चौकीदारी पर लगाया गया था। लगभग 9 से 10 बजे तक रात्रि डयूटी के दौरान पैंथर सामने आ गया एवं लगभग 3 मीटर की दूरी से पैंथर को पत्थरों से रोकते हुए एवं जोर-जोर से बचाओं-बचाओं चिल्लाने पर साथी ट्रेकमेन्टैनरों ने आकर टार्च जलाना चालू किया उसके बाद पैंथर पीछे हटा। आरपीएफ एवं होम गार्ड भी रात्रि में घटना स्थल पर पहुंच गये, उनके द्वारा भी रेल प्रशासन को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराया गया।

विनोद शर्मा एवं अन्य साथी कर्मचारियों द्वारा अपने सेक्शनल रेल पथ इन्जीनियर एवं इंचार्ज रेल पथ इन्जीनियर को इस घटना के बारे में मोबाइल से सूचित करने पर उनके द्वारा सुबह तक फोन तक नही उठाया गया। दिन के समय में यूनिट में आने पर पता चला कि मेरी उस दिन की छुट्टी भी लगा दी गई जबकि मैं पूरी रात्रि डयूटी पर था। मैने यूनिट जमादार एवं सेक्शनल रेल पथ इन्जीनियर एवं इंचार्ज रेल पथ इन्जीनियर को छुट्टी के बारे में शिकायत की तो वे एक दूसरे पर थोपने लगे। इस बारे में सेक्शनल रेल पथ इन्जीनियर का कहना है कि कर्मचारी ने उन्हे फोन किया और जब उन्होंने फोन रिसीव किया तो उसने बात नहीं की। हां, पैंथर के होने की सूचना मिली थी। हमने हमारे कन्ट्रोल रूम में इसकी सूचना दे दी। जहां से संभवतया वन विभाग को सूचना दे दी गई है।