जगह-जगह उमड़ रहा पर्यटकों का कारवाँ

राजसमन्द,/शौर्य-पराक्रम, मनोहारी प्राकृतिक सौन्दर्य और बहुआयामी धार्मिक-सांस्कृतिक खासियतों भरी राजसमन्द जिले की वादियों के बीच इन दिनों सैलानियों का उल्लास भरा सैलाब उमड़ रहा है।

राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात के पर्यटकों के साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों से आए सैलानियों ने धर्म धामों और ऎतिहासिक स्थलों की गोद में पहुंच कर पूरे उत्साह के साथ नव वर्ष का स्वागत किया।

वर्ष के अवसान और नव वर्ष के आरंभिक सप्ताह में राजसमन्द जिले के दर्शनीय व पर्यटन स्थलों तथा धर्म धामों पर हर साल की तरह इस बार भी तांता बंधा हुआ है।

बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने नव वर्ष को श्रीनाथद्वारा पहुंच कर प्रभु श्रीनाथजी के दर्शन किए और इसके बाद श्रीनाथद्वारा के विभिन्न दर्शनीय स्थलों का अवलोकन किया और बाजारों से खरीदारी की। यहां लालबाग, गणेश टेकरी, गिरिराज परिक्रमा आदि स्थलों पर सैलानियों की आवाजाही बनी रही।

कड़ाके की सर्दी के बावजूद ऎतिहासिक कुंभगलढ़ दुर्ग कई दिन से पर्यटकों से गुलजार है। विदेशी पर्यटकों ने भी कुंभलगढ़ को देखा। ये पर्यटन शौर्य-पराक्रम से भरी ऎतिहासिक गाथाओं, मीलों तक पसरे वन वैभव, स्थापत्य और शिल्प कला, चित्रकारिता और पुरातन महत्व से रूबरू हो रहे हैं।

नव वर्ष के दिन मंगलवार को कुंभलगढ़ दुर्ग पर दर्शकों का मेला लगा रहा। हल्दी घाटी सहित इससे जुड़े विभिन्न ऎतिहासिक स्थलों पर भी पर्यटकों की खासी भीड़ उमड़ती रही।

राजसमन्द जिला मुख्यालय पर कांकरोली में प्राचीन द्वारिकाधीश मन्दिर पर दर्शनार्थियों का जमघट लगने लगा है वहीं एरीगेशन गार्डन, राजसमन्द में राजसमन्द झील की खूबसूरत नौचौकी पाल, राणा राजसिंह पेनोरमा को देखने पर्यटकों की भारी भीड़ उमड़ रही है।

इसी प्रकार गढ़बोर में श्री चारभुजानाथ के दर्शनों के लिए भी दूर-दूर से श्रद्धालुओं का आवागमन परवान पर है। इसके समीपस्थ दर्शनीय व धार्मिक स्थलों रूपनारायण मन्दिर, लक्ष्मण झूला, राम दरबार, रोकड़िया हनुमान आदि पर श्रद्धा और आस्था का ज्वार उमड़ रहा है।

सैलानियों के यात्रा मार्ग में आने वाले विभिन्न ऎतिहासिक, धार्मिक और दर्शनीय स्थलों पर भी इन दिनों यात्रियों का दौर निरन्तर बना रहने लगा है।

फोटोग्राफी और सेल्फि की दीवानगी

राजसमन्द जिले के विभिन्न दर्शनीय स्थलों पर अपनी यात्रा को यादगार बनाने के लिए फोटोग्राफी और सेल्फि का आनंद सर चढ़ कर बोलने लगा है। सेल्फि व फोटोग्राफी के लिहाज से राजसमन्द की लोकेशन अपने आप में अनूठी है जहाँ प्रकृति, श्रद्धा और पर्यटन के कई सारे रंगों के साथ यादगार छवियों मोबाइल में कैद होकर सुकून दे रही हैं।

उल्लेखनीय है कि पर्यटन विकास की अपार संभावनाओं को आकार देता हुआ राजसमन्द जिला अब देश-विदेश के सैलानियों की खास पसन्द होता जा रहा है, जहां कि पर्यटकों को दिली सुकून देने वाला हर कारक मौजूद है। यही वजह है कि पर्यटन मानचित्र पर राजसमन्द जिला अब अहम् व अग्रणी पहचान बनाने लगा है।