कोटा । भाजपा के संस्थापक एवं भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिवस पर आयोजित संगोष्ठी अटलजी के चित्र के समक्ष पुष्पांजली के साथ मंगलवार दोपहर 1 बजे भाजपा कार्यालय में सम्पन्न हुई।

जयंती कार्यक्रम में भाजपा शहर जिला नें प्रस्ताव पारित किया कि कोटा में चम्बल पर सैंकडो करोड से निर्मित हैंगिग ब्रिज अटलजी सरकार की देन है, उसका नामकरण अटलजी के नाम पर किया जाना चाहिये। अटलजी की प्रतिमायुक्त स्मारक बनाया जाना चाहिये।

इस अवसर पर भाजपा के जिला अध्यक्ष ने कहा “ स्वतंत्र भारत की राजनीति में राष्ट्रहित की सर्वोच्चता के लक्ष्य को स्थापित करने वाले राजनैतिक दल जनसंघ और बाद में भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य एवं राष्ट्रीय अध्यक्षों के पदों पर रहे, युगपुरूष में अटलबिहारी वाजपेयी का नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित है।

” उन्होने देश में प्रधानमंत्री के रूप में राष्ट्रीय स्वाभिमान, सांस्कृतिक संरक्षण, राष्ट्रीय सुरक्षा संसाधन तथा रक्षा एवं देश में लोक कल्याणकारी शासन व्यवस्था के क्षेत्र में नये कीर्तिमान स्थापित किये इसीलिये उनका जन्म दिवस को सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है। ”

“ अटलजी ने पोखरण परमाणु परिक्षण केअवसर पर अमरीका के दबाव को नकार कर देशहित को सर्वोच्च प्राथमिकता दी। उन्होने देश की जरूरतो को समझा और उनकी आपूर्ती की व्यवस्था के माध्यम से जन अपेक्षाओं पर खरा उतरनें वाला शासन दिया। अटलजी सरकार ने देश में मोबाईल क्रांती और अच्छी क्वालिटी की सड़को के निर्माण की दिशा में बड़ा काम किया। ”

“ अटलजी ने सबसे पहले संयुक्त राष्ट्रसंघ में हिन्दी में भाषण देकर देश का गौरव बढ़ाया, परमाणु परिक्षण कर देश को सुरक्षा कबच दिया और कारगिल युद्ध में पाकिस्तान को पराजित कर विजेता राष्ट्र का परचम लहराया। उनके शासन में ही मोबाइ्रल क्रांती आई और घर घर रसोई गैस सिलेण्डर दस्तक देकर पहुंचता था,किसानों को साहूकारी कर्जों से मुक्त करवाने वाले अटलजी ही थे जिन्हाने किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से बैकों से सस्ता ऋण उपलब्ध करवाया , किसानों की फसल बीमा योजना भी अटलजी ही लाये थे।

गांव -गांव को प्रधानमंत्री सड़क योजना से पहली बार पक्की सडकों से जोडा गया जो पूरे देश में अच्छी और पक्की सडकों का जाल बिछानें वाले भी अटलजी ही थे। महंगाई पूरी तरह नियंत्रण में थी, भष्टाचार रहित केन्द्र सरकार के तीन बार प्रधानमंत्री रहे। ”