अवैध नकली शराब बनाने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हथकंडे उत्तर प्रदेश सोनभद्र

0
15

सोनभद्र : अवैध नकली शराब बनाने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हथकंडे

सोनभद्र : जिले में स्वाट टीम ने अवैध नकली शराब बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया। जिसमें अवैध शराब बनाने वाले दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। साथ ही उनके पास से नकली शराब बनाने वाले उपकरण बरामद किया गया है। बताया जा रहा है कि इस गिरोह द्वारा बेचीं जाने वाली शराब बहुत खतरनाक होती है,जो पीने वालों की आंख और फेफड़े पर काफी गहरा असर डालता है।

सूबे में अवैध शराब से शराब से होने वाली मौतों से जिले का आबकारी विभाग अपनी कार्य प्रणाली में सुधार नहीं ले रहा है।

ताज़ा मामला रावर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र के सैनिक ढाबा लोहरा गांव की है, जहां पर पुलिस ने एक अवैध शराब बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है । जिसके तहत अवैध शराब बनाने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही उनके पास से इनके पास से नकली शराब बनाने वाले उपकरण बरामद, 26 कार्टून में 1170 शीशी नकली शराब 200 मिली. रैपर लगी हुई, 1000 हजार नकली देशी शराब की शीशी के मोनोग्राम युक्त ढक्कन समेत अन्य उपकरणो के साथ ही एक इंडिगो कार भी शामिल है। यह गिरोह नकली शराब बनाकर, सरकारी नकली रैपर और बार कोड आदि चस्पा कर आस पास के जिला समेत बिहार में भी बेचते थे।

अपर पुलिस अधीक्षक डा. अवधेश सिंह ने बताया

मधुपुर व सुकृत क्षेत्र में विगत के दिनो से अवैध शराब तस्करी की सूचना पर अपराध शाखा की स्वाट टीम समेत सुकृत चौकी की दो टीमो का गठन कर अवैध शराब तस्करी के खिलाफ छापेमारी की जा रही है। जिसके फलस्वरूप 14 नवम्बर को मुखबीर की सूचना पर सैनिक ढाबा ग्राम लोहरा के पास दोनों गठित टीमो द्वारा छापेमारी किया गया , जहां से दो लोगों को मौके पर गिरफ्तार किया गया। बाकी के तीन लोग फरार होने में कामयाब हो गए है। परन्तु गिरफ्तार आरोपियों के पास से भारी मात्रा में नकली देशी शराब व नकली होलोग्राम, बारकोड, शीशिओ के ढक्कन, स्टैम्प, 26 कार्टून में 1170 शीशी देशी शराब, एक हजार रुपये नगदी, देशी शराब की शीशी के मोनो ग्राम युक्त ढक्कन, कुल नौ सौ बार कोड होलोग्राम स्टीकर, 500 नकली देशी शराब की सीसी पर लगये जाने वाले रैपर, 45 खाली कार्टून व एक टाटा इंडिगो कार बरामद किया गया है। साथ ही इनके पास से नकली शराब पर ब्लू लाइम देशी शराब लॉर्ड्स डिस्टिलरी ली गयी है।

इसी कड़ी में अपर पुलिस अधीक्षक ने आगे बताया कि अवैध नकली शराब की एक बोतल बनाने में 10 दस रुपये लागत आती है जिसे 40 से 50 रुपये में विक्रय करते है जो बाजार में सरकारी देशी शराब के दाम 65 रुपये में बिकती है । इनके पास कोई मशीन नही होती जिसकी वजह से अल्कोहल की मात्रा नही नापते और 40 डिग्री की शराब बनाते है जिससे पीने वालों की आंख और फेफड़े पर असर पड़ता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here